Wednesday, 22 June 2022

PRINCIPLES OF INSURANCE






 Protection in India

Protection was polished in India even in the Vedic times and the Sanskrit expression "Yogakshema" in the Rigveda is regarding a type of Insurance rehearsed by the Aryans quite a while back.


The principal Indian Life confirmation Society was classified "Bombay Mutual Assurance Society Ltd."


"Oriental Life Assurance Society Ltd" in 1874,

"Bharat Insurance" in 1896 and

"Realm of India" in 1897 followed it.

disaster protection

History of Life Insurance

In the Swadeshi Movement of 1905 Mahatma Gandhi's call to Indians to give their business just to Indian Companies gave a lift to the new organizations and they merged their situation.


More Indian organizations entered the Life Insurance area to be specific


Hindustan Co-usable,

Joined India, Bombay Life,

Public and

Laxmi Insurance.

These organizations needed to rival 150 unfamiliar workplaces including the absolute biggest Insurance bunches on the planet.


Protection in Modern India

Government began practicing control on Insurance business by passing "Protection Act" in 1912.

This Act was extensively altered and passed as New Act in 1938 for controlling Investment of assets, use and Management.

The Office of Controller was laid out. Once more, this Act was revised in 1950.

By 1955, 170 Insurance workplaces and 80 P.F. Social orders enrolled organizations were doing Life Insurance business in India.


Considering flood in misbehaviors in Life Insurance business, because of the ignorance level being high and need will for entrance/spread of Life Insurance business, it was nationalized by Government of India and LIC Act was passed in June' 1956, and this Act came into force from 1.9.1956.


General protection (which manages non-life business i.e protection of property) likewise nationalized in 1972 in the wake of converging of 55 Indian and 52 Non-Indian organizations were nationalized by shaping four general insurance agency.


The Govt. Of India, while changing the Indian economy, likewise felt the progression of protection area due to bring down infiltration of protection when contrasted with Indian populace and its size and other emerging nations.


At first the Govt. shaped a Malhotra panel in 1993 to concentrate on whether the protection area ought to be opened for private players.


The board prescribed to Liberalize, Privatize and Globalize (LPG) the protection area. In 1999, the Authority known as Insurance Regulatory and Development Authority through IRDA Act 1999 was framed.



Advancement of Insurance industry will without a doubt help Indian economy, the Government, Industry, Employee, and Consumer and Society in the accompanying way

Advantages to Economy

Quick venture

Work on Quality to Life (New gamble covers)

Contest will bring Consumer Friendly Products

Enormous Scale Mobilization of Funds

Protection and Reinsurance Facilities to Major Projects

Send out Projects covered at Home

Advantage to Government

Long haul Funds for Infrastructure

Long haul Debt Market Instruments Available

Expanded Employment Opportunities and Compensation

Diminished Financial Burden of

Provincial Social and Backward Classes

Commitments in Calamities (Sharing of Social Responsibilities)

Advantage to Industry

Move of Technical Expertise

Imaginative Products and Pricing Options

Further developed Prospects for National Cos.

Market Driven Economy will Benefit Customer the most

Advantage to Consumer

Predominant Quality at Lower Prices

More extensive Choice of Products

Top notch Service to the Consumer

Expanded Penetration of Insurance

Advantage to Employee

Human Resource Development

Openness to 'Cutting edge Practices"

More prominent hurl Opportunities

Higher Remuneration

Proficient Management Practices

Advantage to Society

Risk cover for Large Industry. Exchange and Property

Ecological Risks get Reduced

Quick in and out Compensations

Crop Insurance for Covering Risk of Nature - Poor Rainfall and so on.

Financial Responsibilities Burden shared

Schooling Medical abundance Accident

  • IRDAI is an autonomous, statutory body tasked with regulating and promoting the insurance and re-insurance industries in India
  • It was founded in 1999 and is headquartered in Hyderabad
  • IRDAI is a 10-member body including the chairman, five full-time and four part-time members appointed by the government of India
  • Subhash Chandra Khuntia is the current Chairman of IRDAI
  • Mission statement of the Authority:
    • To protect the interest of & secure fair treatment of shareholders
    • To bring about speedy and orderly growth of the insurance industry (including annuity and superannuation payments), for the benefit of the common man, and to provide long term funds for accelerating growth of the economy
    • To set, promote, monitor and enforce high standards of integrity, financial soundness, fair dealing and competence of those it regulates
    • To ensure speedy settlement of genuine claims, to prevent insurance frauds and other malpractices and put in place effective grievance redressal machinery
    • To promote fairness, transparency and orderly conduct in financial markets dealing with insurance and build a reliable management information system to enforce high standards of financial soundness amongst market players
    • To take action where such standards are inadequate or ineffectively enforced
    • To bring about optimum amount of self-regulation in day-to-day working of the industry consistent with the requirements of prudential regulation

Insurers

  • The Indian market is a regulated market and nobody can carry on insurance business without obtaining license from IRDAI. The insurance company should be an Indian Company, and should have minimum Rs. 100 Cr paid up capital.
  • A Company can carry either life or non-life (general) insurance but not both. In the Indian market there are public sector insurers and private sector insurers, with or without foreign holding.
  • General Insurance Corporation of India, a public sector company, is an insurance company doing exclusively reinsurance business.
  • There is one Life Insurance Company in the public sector. Remaining 23 are in private sector.
  • There are 27 insurance companies registered as Non-life (General) Insurance companies.
    • Agriculture Insurance Company of India Limited., a public sector company, is a specialized insurer for risk related to Crop insurance.
    • Export Credit and Guarantee Corporation of India, a public sector company, is a specialized insurer for risks related to export credit
    • There are eight General insurance companies in the public sector. The remaining 20 General Insurance companies are in the private sector.
    • There are four standalone health Insurance companies, in the private sector, specialized in health insurance.
  • In all there are 24 Life Insurance companies and 27 Non-life (general) insurance companies

Sunday, 20 March 2022

Public Sector Insurance Companies

 

Public Sector Insurance Companies

Monday, 28 February 2022

How Much Money Will I Earn Through Adsense

 


https://1ee6diz6wk-a735lxc4wat7q7s.hop.clickbank.net/

Assuming that you're taking a gander at Google's AdSense program, you're unquestionably asking yourself the amount you could make from such a program, and you likely figure you can't make however much you can from customary publicizing plans.


Google, obviously, keeps a lot of mystery in regard to the amount Google ads promoters pay per each snap coordinated to their webpage and similar applies for the amount AdSense standard holders make from their sites.

While there's not much, reports course around the Internet concerning how much money a site can procure by utilizing AdSense. Furthermore many individuals (unlawfully) uncover the amount they have been making with AdSense. There are accounts of individuals raising north of 1,000 dollars each month utilizing AdSense.

There are likewise accounts of individuals surpassing $100,000.00 each month yet it's a piece hard to trust such stories. Reality to the matter is that assuming you have a little site and you simply need it to help itself, and don't wish to arrive at your pocket for its upkeep costs you can likely do this with AdSense.

AdSense is additionally generally excellent for individuals who have a great deal of pages. Regardless of whether the said pages create a great deal of traffic separately, every snap counts and you can bring in up with a ton of cash by doing this. Furthermore that simply goes to demonstrate that occasionally amount matters almost as much as quality.

Who knows how much cash you will make by utilizing Google's AdSense yet you can kind of tell for yourself, before really beginning, by thinking about a couple of things.

In the first place, is how much visits you get each day. While it's basically impossible to appraise definitively on this, you can by and large make a protected suspicion that assuming you have a great deal of snaps each day you'll take in substantial income.




Additionally, this relies upon what's going on with precisely your site. On the off chance that your site is tied in with anything famous (music, sex, whatever) you will undoubtedly get a great deal of flag clicks. These have a coefficient related with them, called the CTR (navigate proportion).

Essentially, what it means is that assuming an enormous extent of your site's guests click the promotions you'll get more cash-flow. Furthermore the most effective way to do this is to have some famous substance in your site, guaranteeing the connections direct clients towards well known things also.

Then, at that point, obviously, there's the position and number of advertisements on your site. While you would rather not get carried away, having many connections will without a doubt create more pay for you as a website admin. Don't anyway accept, that assuming you simply add a ton of advertisements in a significant part of your site, guests could continuously skip them (and be guaranteed that many do exactly that).

There's something between a craftsmanship and a science to situating your advertisements. Individuals for the most part examine specific spots and never examine others, and realizing this a site creator as well as website admin can do a lot of things to expand his profit with AdSense.
                                                                       

All things considered, how much cash you make with AdSense relies upon many variables. Be that as it may, assuming you have a site with intriguing substance and additionally many pages, and assuming that you see a continually huge measure of traffic consistently, you can wager you'll rake in tons of cash with AdSense.

Regardless of whether you're not in the above classes, AdSense is as yet worth utilizing on the grounds that there's tiny problem in setting it up, and ordinarily it can help monetarily support the site, while being a great reward to get past the post toward the month's end.


Thursday, 3 February 2022

LIC New Money Back Policy with Guaranteed Return: Know Maturity Benefits, Other Features

Landing Page: https://go.coinmama.com/visit/?bta=67468&nci=5387

 


     LIC Dhan Rekha is an extra security plan, and non-value connected strategy, which is offering assurance and reserve funds to the policyholders and their relatives. The Dhan Rekha plan pays a level of the essential total guaranteed as an endurance benefit at ordinary time periods premium-paying term. All benefits under the LIC Dhan Rekha plan are completely ensured. While there are exceptional premium rates for ladies, the strategy is additionally took into account the third orientation.

LIC Dhan Rekha Plan: Who is Eligible?


Contingent upon the arrangement term, the base age to enter goes from 90 days to 8 years. Contingent upon the arrangement term, the greatest age at the entry can go from 35 to 55 years of age.


LIC Dhan Rekha Plan: Minimum Sum Assured


Under the LIC Dhan Rekha plan, the base aggregate guaranteed is Rs 2 lakh, with no upper limitation on the greatest total guaranteed. The essential aggregate guaranteed will be in products of Rs 25,000, of the said sum.


LIC Dhan Rekha Plan: Maturity Benefit



On the life guaranteed making due to every arrangement term, a proper level of the fundamental total guaranteed will be paid. For quite a long time of the strategy term, the endurance advantage will be 10% of the fundamental total guaranteed toward the finish of every one of the tenth and fifteenth approach years.


For quite a long time of the strategy term, the endurance advantage will be 15% of the fundamental total guaranteed toward the finish of each of the fifteenth, twentieth, and 25th approach years.


For a considerable length of time of the strategy term, the endurance advantage will be 20% of the fundamental total guaranteed toward the finish of each of the twentieth, 25th, 30th, and 35th approach years. On development, the aggregate guaranteed on development alongside the gathered ensured augmentations, will be paid, where it will be equivalent to the essential total guaranteed.


Passing Benefit of LIC Dhan Rekha Plan


According to LIC, the passing advantage will be paid by the organization on death during the arrangement term, will be the Sum Assured on Death alongside Accrued Guaranteed Additions. Furthermore, for Single premium installments, the Sum Assured on Death will be 125% of the Basic Sum Assured. Nonetheless, for the restricted premium installment, the Sum Assured on Death will be higher of 125% of Basic Sum Assured or multiple times of annualized premium. The Death Benefit under Limited Premium installment won't be under 105% of absolute charges paid. For the minor policyholders, whose age at passage is under 8 years, on death before the beginning of Risk, return of premium(s) settled barring charges.


A policyholder's family can apply for the demise benefit in portions over a picked time of 5 years rather than a single amount sum. The regularly scheduled payment will be Rs 5,000, the quarterly portion will be Rs 15,000, the half-yearly portion will be Rs 25,000, and the yearly portion will be Rs 50,000.


LIC Dhan Rekha Plan: Loan Facility



This arrangement additionally incorporates an advance office to meet liquidity prerequisites. Discretionary riders are accessible under this arrangement at an additional a cost, be that as it may, there will be a few limitations, expressed LIC. The arrangement can be bought both disconnected and online through specialists/delegates like POSPLI/Common Public Service Centers (CPSC-SPV) and the site www.licindia.in.

adviser-Mashrubhai Dhoriya-9904116532

email-licmtd@gmail.com

Tuesday, 14 December 2021

LIC के ब्रांड बनने की कहानी:5 करोड़ रुपए की सरकारी रकम से शुरू हुई कंपनी,

      
     LIC के ब्रांड बनने की कहानी:5 करोड़ रुपए की सरकारी रकम से शुरू हुई कंपनी, अब तक सरकार को दे चुकी है 23 लाख करोड़.

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की दस्तक हो चुकी है। शेयर बाजार में गिरावट का रुख है। Paytm और स्टार हेल्थ जैसी इंश्योरेंस कंपनियों के IPO पिट गए हैं। इसके बावजूद भारतीय जीवन बीमा निगम, यानी LIC, जनवरी से मार्च के बीच में देश का सबसे बड़ा IPO ला रही है। इससे LIC के पॉलिसी होल्डर्स, एजेंट्स और कर्मचारियों की धड़कनें बढ़ गई हैं।

आज हम LIC की पैदाइश से लेकर उसके ब्रांड बनने की पूरी कहानी लेकर आए हैं। कैसे 5 करोड़ की सरकारी रकम से शुरू हुई एक कंपनी, सरकार को करीब 23 लाख करोड़ रुपए दे चुकी है? कैसे भारत में इंश्योरेंस का मतलब LIC बन गया? पिछले 65 साल में कैसे गांव-गांव तक LIC पहुंच गया?



कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की दस्तक हो चुकी है। शेयर बाजार में गिरावट का रुख है। Paytm और स्टार हेल्थ जैसी इंश्योरेंस कंपनियों के IPO पिट गए हैं। इसके बावजूद भारतीय जीवन बीमा निगम, यानी LIC, जनवरी से मार्च के बीच में देश का सबसे बड़ा IPO ला रही है। इससे LIC के पॉलिसी होल्डर्स, एजेंट्स और कर्मचारियों की धड़कनें बढ़ गई हैं।

आज हम LIC की पैदाइश से लेकर उसके ब्रांड बनने की पूरी कहानी लेकर आए हैं। कैसे 5 करोड़ की सरकारी रकम से शुरू हुई एक कंपनी, सरकार को करीब 23 लाख करोड़ रुपए दे चुकी है? कैसे भारत में इंश्योरेंस का मतलब LIC बन गया? पिछले 65 साल में कैसे गांव-गांव तक LIC पहुंच गया?

शुरुआत में भारतीयों का बीमा नहीं करती थी कंपनी

1818 में पहली बार भारत की धरती पर कोई बीमा कंपनी शुरू हुई थी। इसका नाम ओरिएंटल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी था। ये सिर्फ अंग्रेजों का जीवन बीमा करती थी। बाबू मुत्तीलाल सील जैसे कुछ लोगों के प्रयासों से भारतीयों का भी बीमा होने लगा, लेकिन उनके लिए रेट अलग थे। 1870 में पहली भारतीय लाइफ इंश्योरेंस कंपनी शुरू हुई तो बराबरी का हक मिला। धीरे-धीरे भारत में जीवन बीमा कंपनियों की बाढ़ आ गई।

बेंगलुरु में ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी की बिल्डिंग, जिसे अंग्रेजों ने बनवाया था।
बेंगलुरु में ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी की बिल्डिंग, जिसे अंग्रेजों ने बनवाया था।
1956 में 245 कंपनियों को मिलाकर बनाई गई LIC

1956 तक भारत में 154 भारतीय इंश्योरेंस कंपनियां, 16 विदेशी कंपनियां और 75 प्रोविडेंट कंपनियां काम करती थीं। 1 सितंबर 1956 को सरकार ने इन सभी 245 कंपनियों का राष्ट्रीयकरण करके भारतीय जीवन बीमा निगम, यानी LIC, की शुरुआत की। सरकार ने उस वक्त इसे पांच करोड़ रुपए जारी किए थे। 1956 में LIC के 5 जोनल ऑफिस, 33 डिविजनल ऑफिस, 212 ब्रांच ऑफिस और एक कॉर्पोरेट ऑफिस था। कंपनी ने एक साल में ही 200 करोड़ का बिजनेस किया। इस भरोसे के पीछे एक बड़ी वजह सरकार की गारंटी थी।

1990 के उदारीकरण में भी बरकरार रहा दबदबा

1990 तक भारत में ज्यादातर कंपनियों पर सरकार का एकाधिकार था। 1991 के बाद धीरे-धीरे सरकारी कंपनियों को निजी हाथों में बेच दिया गया, लेकिन सरकार ने LIC को नहीं छुआ। कई प्राइवेट इंश्योरेंस कंपनियां आने के बावजूद भारत के दो तिहाई बीमा बाजार पर LIC का कब्जा है। ये करीब 36 लाख करोड़ की संपत्ति का मैनेजमेंट करती है। LIC ने लोगों के बीच भरोसा बनाया है कि यहां लगाया उनका पैसा कभी डूबेगा नहीं।

जीवन बीमा मतलब LIC बनाने में ऐड्स का रोल

1970 के दशक में बाजार में LIC की मोनोपली थी। उस दौर के ऐड में दो हाथों के बीच एक लड़के की तस्वीर है। लिखा है कि उसे अपने प्रोटेक्शन की गर्माहट को महसूस होने दीजिए।

1980 के दशक में ऑडियो-विजुअल मीडियम आ चुके थे। कंपनी ने ऐसा संदेश दिया कि लाइफ इंश्योरेंस मतलब LIC। ये बात लोगों के जेहन में बैठ गई। उन दिनों दूरदर्शन पर आने वाले एक ऐड की टैगलाइन थी- रोटी, कपड़ा, मकान और जीवन बीमा।
1990 के आखिरी दिनों में LIC ने अपनी ब्रांड इमेज के लिए पुरजोर कोशिश की। 'न चिंता, न फिकर' और 'जिंदगी के साथ भी, जिंदगी के बाद भी' जैसी टैगलाइन वाले ऐड्स दिए।
20वीं सदी में LIC का एक ऐड है। बाजार में एक लड़की खो जाती है। उसके पिता उसे बेतहाशा खोज रहे हैं। अचानक किनारे की एक दुकान पर वो दिखती है। ऐड कहता है- जिंदगी के साथ भी, जिंदगी के बाद भी। 70 के दशक वाला हाथ अब एक गर्मजोशी भरे गले लगने में बदल चुका है।
LIC सरकार के लिए साहूकार की तिजोरी की तरह

सरकार जब भी मुश्किल में फंसती है तो LIC का इस्तेमाल किसी साहूकार की तिजोरी की तरह होता है। 2015 में ONGC के IPO के वक्त LIC ने करीब 10 हजार करोड़ रुपए लगाए थे। 2019 में कर्ज से जूझ रहे IDBI बैंक को उबारने की बात आई तो LIC ने एक बार फिर अपनी झोली खोल दी।

LIC से 23 लाख करोड़ रुपए ले चुकी हैं सरकारें

2019 में जारी RBI के डेटा के मुताबिक, शुरुआत से लेकर अब तक LIC ने अब तक सरकारी क्षेत्र में 22.6 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया है। इसमें से 10.7 लाख करोड़ रुपए तो 2014-15 से 2018-19 के बीच ही लगाए गए हैं।

इस वक्त ये 100% सरकारी कंपनी है, लेकिन जनवरी से मार्च 2022 के बीच सरकार कंपनी की 10% हिस्सेदारी शेयर बाजार में बेचने जा रही है। सरकार को LIC के IPO से 90 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा रकम जुटाने की उम्मीद है।

LIC के कर्मचारियों की क्या चिंताएं हैं?

LIC को बचाने की मांग लेकर प्रदर्शन करते कर्मचारी
LIC को बचाने की मांग लेकर प्रदर्शन करते कर्मचारी
सरकार के मंसूबों पर LIC के ही कर्मचारी सवाल उठा रहे हैं और IPO निकालने का विरोध कर रहे हैं। इन्हें अपनी नौकरी का डर सता रहा है। उनका कहना है कि LIC में सरकारी हिस्सेदारी में किसी भी तरह की छेड़छाड़ से बीमा धारकों का इस कंपनी पर से भरोसा हिला देगा। IPO की वजह से LIC पॉलिसी होल्डर्स की भी धड़कने बढ़ी हुई हैं। हालांकि उन पर सीधा कोई असर नहीं पड़ेगा। शेयर बाजार में लिस्टेड होने से कंपनी के कामकाज में और अधिक पारदर्शिता आएगी। सरकार ने कहा है कि वह LIC के IPO इश्यू साइज से 10% शेयर पॉलिसी होल्डर्स के लिए सुरक्षित रखेगी।

Sunday, 21 November 2021

क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है? यह कैसे बनाया जाता है? यह एक आभासी मुद्रा है है, जिसका कोई भौतिक रूप नहीं है।

https://go.coinmama.com/visit/?bta=67468&brand=coinmamaaffiliates


      क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है? यह कैसे बनाया जाता है?
 यह एक आभासी मुद्रा है है, जिसका कोई भौतिक रूप नहीं हैबिल्कुल नहीं। कंप्यूटर में इसका निर्माण
 निश्चित रूप से एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम के साथ किया गया है, जिसके लिए विशेष प्रकार विशेष तकनीक का उपयोग किया जाता है।
 प्रक्रिया को क्रिप्टोग्राफी कहा जाता है क्रिप्टोकाउंक्शंस का निर्माण-उत्पादन प्रक्रिया को खनन कहा जाता है
 सोने की खदान खोदने जैसा है सोना निकाला जाता है या किसी धातु की खदान खोदकर  क्रिप्टो उस धातु के रूप में निकाला जाता है बिल्कुल कंप्यूटर में निकालने के लिए एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम से खनन करने आ। सोना, बिल्कुल कि अन्य धातुएं भौतिक हैं निकलता है, प्रकट होता है, जबकि क्रिप्टो वर्चुअल रहता है।
 उनकी इलेक्ट्रॉनिक पुस्तक में प्रवेश क्या होता है देखा नहीं जा सकता। इसे ब्लैक चेन रजिस्टर करें
 कॉल और क्रिप्टो लेन-देन द ब्लैक चेन
 पर होता है। (डीमैट के रूप में हम शेयर देख सकते हैं
 नहीं, लेकिन हमारे पास है कर सकना। इसमें निवेश किया हम कर सकते हैं, हम व्यापार कर सकते हैं। इससे हमें पैसे मिल सकते हैं। क्रिप्टोक्यूरेंसी खनन के लिए परिष्कृत तकनीक, सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर का उपयोग किया जाता है। इस इसलिए विशेष विशेषज्ञता की आवश्यकता है है। तो इसकी कीमत बहुत ज्यादा है
 आ रहा है। अधिक खनन के रूप में लागत बढ़ जाती है। क्रिप्टो की सप्लाई कितनी हैं इसे पहले से तय किया जा सकता है है, जैसा कि बिटकॉइन का अनुपात है
 निर्णय लिया वगैरह  बिटकॉइन का पूरा खनन
 किया जाएगा तो नया आपूर्ति ठप हो जाएगी। धातु की तरह जमीन से आपूर्ति हो जाए तो उसकी माइनिंग दूसरी है जैसा कि जमीन में करना होता है। यहां जमीन की जगह टेक्नोलॉजी का  काम। लेकिन यहां एक और जमीन वह है मावो कोइन। द टेक्नोलॉजी मूल रूप से सातोशी नाकामोतो
 नामित जापानी व्यक्ति या समूह तैयार किया जा रहा है
 दावा किया हां, भी
      वास्तव में इसके बारे में अधिक जानकारी बाहर नहीं आया। उस व्यक्ति क्या यह वास्तव में मौजूद है
 मुझे तो पता ही नहीं। पहला क्रिप्टो मुद्रा का नाम बिटकॉइन था था। इंटरनेट से यह तकनीक आगे भी बुलाया। इस मामले में, मुख्य बात
 ब्लॉकचेन तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है।
 जिसकी मुद्रा वर्तमान में विभिन्न क्षेत्रों में है यह बढ़ रहा है। वर्तमान में यह संपूर्ण प्रौद्योगिकी प्रक्रियाओं के लिए काम करती है, जो खुला स्रोत है, लेकिन सभी नहीं
 यह बस का काम नहीं है।                                        ब्लॉक चेन एक प्रणाली है जो प्रक्रिया करती है और
 उत्पाद को व्यापक रूप से कवर करता है है। यह एक बहुत बड़ा लेजर है यह भी कहा जा सकता है,
 जिसमें उत्पाद उस सेवा का सब लेना देना या व्यवहार करना या कारक अवशोषित किया जा सकता है। जे एक दूसरे के लिंक हैं है, एक इंटरकनेक्टेड
 विशाल नेटवर्क को जानता है।
 क्रिप्टोक्यूरेंसी एक सामान्य है नाम क्रिप्टोग्राफी के कारण है यह तैयार है। और जे सिक्का
 तैयार होने पर इसे एक नया नाम दें जलप्रपात। उसका नाम उसका निर्माता है दे रहे हैं। ऐसा अलग-
 आज दस हजार से अलग-अलग नामों से
 अधिक क्रिप्टोकरेंसी उपलब्ध हैं। जिनमें से पहला और सबसे प्रसिद्ध- लोकप्रिय-महंगा बिटकॉइन है।
 बाकी इस हरि का नाम हजार है। पूरी दुनिया का ध्यान किस पर है? की ओर खींचा।
 शेयर बाजार में शेयरों की लिस्टिंग की तरह इसकी क्रिप्टोकुरेंसी जैसा होता है
 एक विशेष एक्सचेंज पर लिस्टिंग
 हो जाता। तदनुसार, इसकी बिक्री हो जाता। प्रशासन विनिमय
 संभालती है। इसका व्यापार, समाशोधन हो जाता। निपटान होता है। इसमें केवल ऑनलाइन लेनदेन किया जाता है कर सकना। ताकि सौदागर
 तकनीक के बारे में जानकार होना चाहिए हो जाता। चूंकि यह बाजार वैश्विक है 2 घंटे चलता है। इसमें
 सौदे करने के लिए निवेशक केवाईसी (अपने ग्राहक को जानो) अनुष्ठान सहित विभिन्न मानकों  का पालन किया जाना चाहिए।

Friday, 22 October 2021

नियमीत बचत आपको आगे किस तरह मदद कर सकती हैं।

     नियमित बचत आपको किस तरह मदद कर सकता ?
वित्तीय पिरामिड के रक्षा संबंधी बुनियाद का महत्व अब आपको समझ में आ गया होगा। आर्थिक अनिश्चितता के समय में आपको यह कवच सुरक्षा प्रदान करता है।पिरामिड की दूसरी परत नियमित बचत की है। आपकी मजबूत बुनियाद आपको अनिश्चितता के
सामने सुरक्षा प्रदान करेगी और इस मजबूत बुनियाद पर एक एक ईट के रूप में आपको बचत जमा
करनी होती है।
नियमित बचत किसी शर्त के तहत नहीं होती है।शेयर बाजार चाहे जैसा हो, ब्याज की दर चाहे
जितनी मिलती हो, सोना का भाव चाहे जितना हो, आप की बचत कम या अधिक करने का सवाल
पैदा नहीं होता है। आपको तो जितनी अधिक बचत होती हो, उतनी करनी ही होती है।
1) संतानों की शिक्षा के लिए प्रावधान: आप आय करने लगेतब से नियमित बचत करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि उसकी मदद से आप भविष्य
में प्रचंड भारी रकम प्राप्त करने में समर्थ बनते हैं।
संपत्ति सर्जन जितना पहले शुरू हो इतना
अच्छा यदि आप अपनी संतान के जन्म के दिन से
ही इक्विटी फंड में हर महीने मात्र 6500 रुपए जमा करते रहो तो उसके 18 वर्ष के होने तक में
आपके पास में 49- 50 लाख रुपए का फंड जमा हो सकता है( यहां हमने इक्विटी फंड की प्रतिफल की
दर 12% मानी है)।
2) निवृत्ति काल के लिए प्रावधान: निवृत्ति के बाद कितना जीवन होगा, उसका किसी को पता
नहीं होता है. हालांकि एक बात सच्ची है कि वर्तमान समय में लोगों की आयु बढ़ गई है।इससे निवृत्ति
जीवन के लिए पर्याप्त वित्तीय प्रावधान कर लेना जरूरी है।अपनी आय के कम से कम 20%
हिस्से का निवेश निवृत्ति काल के लिए करना चाहिए. आपको घर खरीदने के लिए, कार खरीदने के लिए, टीवी -फ्रिज या मोबाइल खरीदने के लिए
लोन मिल सकता है, लेकिन निवृत्ति जीवन के लिए इस दुनिया में कोई भी संस्था लोन नहीं देती! चक्रवृद्धि प्रतिफल यह जगत का आठवां अजूबा है। जिसे यह बात समझ में आई है, वह सुखी है और जिसे
समझ में नहीं आई है, वह दुखी है।यदि आपने हम अपनी उम्र के 30 से 55 वर्ष अर्थात 25 वर्षतक हर
महीने इक्विटी फंड में ₹20000 भरते रहो तो निवृत्ति जीवन के लिए आपके पास 3.75 से चार करोड़
रुपए का फंड जमा हो सकता है।
3) घर की खरीदी के लिए प्रावधान: अपना घर खरीदने की जिम्मेदारी बड़ी होती है। हमारे देश में तो यह काफी बड़ी बात है। यदि आप होम लोन से घर खरीदने
का निश्चित करें तो आपको ऊचाय ए म आ ई (
इ क्वेटेड मं थ ली इंस्टॉलमेंट) भरनेbके लिए तैयार
रहना पड़ताbहै।कहा जाताहै
कि आज के समय में गुलामों को जंजीर में नहीं कर्ज से बांधकर रखा जाता है आपको यह याद रखना है कि
आपका घर एक एसेट नहीं, बल्कि दायित्व है।आप की मासिक आय ऊंची हो तो आप ज्यादा लोन ले
सकते हैं, यह बात सही है, लेकिन
जितनी चाहती हो उतनी ही लोन ले, अधिक लोन लेने के लोभ में ना पड़े ।एक अच्छे घर के झांसे में
आप अपने 20 वर्ष दे देते हैं, इस बात को याद रखें. होम लोन को 10 वर्ष में अदा कर दिया जाए, इस तरह
का आयोजन करें।
आप वित्तीय पिरामिड का मजबूत बुनियाद बनाकर और नियमित रूप से बचत का जीवन को चिंता मुक्त
बना सकते हैं। सिर्फ अधिक पैसा प्राप्त करने के लिए नहीं, बल्कि आर्थिक रूप से स्वतंत्र रह सको,
ऐसा लक्ष्य रखना चाहिए।यह आर्थिक स्वतंत्रता आपको भविष्य में अपनी इच्छा अनुसार का जीवन जीने
में सहायक हो सकती है। उचित वित्तीय आयोजन वर्तमान और भविष्य दोनों में आपको और आपके परिवार को सुख- शांति देती है।

Tuesday, 5 October 2021

शेयर बाजार के पोर्टफोलियो की तरह हमारा भी जीवन बीमा का भी पोर्टफोलियो होना चाहिए।

   हम कुछ गैर मान्यताओं के बार में बात करते हैं:
1) बीमा की पॉलिसी लेने से हमारा खर्च बढ़ता है और घर खर्च में कटौती करनी पड़ती है:
कभी कभार घर खर्च में कमी कर और जीवन स्तर मैं कमी कर भी बीमा लेना जरूरी है। यहां एक उदाहरण
देखते हैं।ऊंचा वेतन पाने वाले एक व्यक्ति को अचानक ऑफिस के कार्यक्रम में बेचैनी लगने लगी। थोड़ी
ही देर में उल्टी हुई और सहयोगियों ने व्यक्ति को निकट के हॉस्पिटल में दाखिल किया। उसके पद के अनुरूप
उपचार मिला, लेकिन कैंसर का निदान हुआ।कुछ ही दिनों में उसके अंग एक के बाद एक फेल होने लगे और मृत्यु हो गई।ऊंचा वेतन होने के बावजूद उसने अपने जीवन स्तर के अनुरूप बीमा नहीं लिया था। काम करने में हमेशा आगे रहने वाले इस व्यक्ति ने अपने लिए पर्याप्त रकम का जीवन बीमा लेने में ढील की।मुझे मृत्यु का डर ना बताओ, मैं मेरे परिवार के लिए मेहनत कर रहा हूं, ऐसा कहने वाले व्यक्ति ने वस्तुतः परिवार के लिए जरूरी जीवन बीमा नहीं लिया और
इसका बुरा परिणाम आया
 वास्तविकता: जीवन बीमा का अकाल मृत्यु की स्थिति में भी उपयोग होता है और लंबी उम्र की स्थिति में भी
काम आने वाला प्रोडक्ट है।
2) जीवन बीमा सिर्फ पुरुषों के लिए होता है:
यह मुद्दा पहले के लेखों में भी आ गया है, लेकिन फिर कहना है कि महिलाओं का भी जीवन बीमा
होना चाहिए।यदि महिलाएं हर क्षेत्र में कार्यरत हो तो उनके लिए जीवन बीमा क्यों नहीं।
वास्तविकता: नौकरी व्यवसाय द्वारा नौकरी व्यवसाय द्वारा कमाने वाली महिला का बीमा पुरुषों जितना
ही होना चाहिए. बीमा मानव जीवन मूल्य के आधार पर लिया जाता है, सिर्फ पुरुष जीवन मूल्य के आधार
पर नहीं।H
3) कम प्रीमियम वाली पॉलिसी पर्याप्त है: निवेश पर
रिटर्नमिले उसी तरह निवेश वापस मिलना भी महत्वपूर्ण है। सस्ते प्रीमियम के बदले पर्याप्त रिस्क कवर को ध्यान में रखकर बीमालेना होता है।
वास्तविकता: आपने जिस बीमा कंपनी के पास से पॉलिसी खरीदी उस कंपनी का क्लेम सेटेलमेंट रेशियो
कितना है, उसे जान लेना चाहिए।
जरूरत पड़ने पर बीमा कंपनी का क्लेम सेटलमेंट करने की उदारता और स्थिति में होना महत्वपूर्ण है।
4) दो-तीन वर्ष के लिए पॉलिसी लगूं और बाद में प्रीमियम भरना बंद कर दूंगा:
आजकल लोग बीमा पॉलिसी के नाम पर ठगी का गोरखधंधा भी चलता है। आप दो-तीन वर्ष के लिए प्लान लो और पसंद ना आने पर पॉलिसी बंद करा दो ऐसे लोगों को कहा जाता है, लेकिन ऐसी पॉलिसी लेने में आखिरकार नुकसान आपका ही है ।
वास्तविकता: आपको शॉर्टकट ऑफर करने वाले व्यक्ति पर कभी विश्वास न करें। पॉलिसी के सभी विवरणों की जांच कर ले और कंपनी की वेबसाइट की जांच करने के बाद ही बनवा लें ।
5) मेरे पास तो बचपन से पॉलिसी है: मैं छोटा था तब मेरे पास पॉलिसी है, ऐसा कह कर लोग
नई पॉलिसी लेना टालते होते हैं, लेकिन उनको पता
नहीं होता कि बचपन में ली गई पॉलिसी किस प्रकार की और उसका रिस्क कवर कितने वर्षतक मिलने वाला है।
कई बार ऐसा होता है ऐसे व्यक्ति के 40 वर्ष का होने तक कि सभी पालिसी परिपक्व हो जाती है और फिर जरूरत पड़ने पर एक भी पॉलिसी नहीं होती।
वास्तविकता: शेयर बाजार के पोर्टफोलियो की तरह जीवन बीमा का भी पोर्टफोलियो होना चाहिए. इसमें
अलग-अलग प्रकार की और अलग- अलग उम्र समूह में रिस्क कवर करने वाली पॉलिसी होनी चाहिए. जीवन
बीमा के लिए एक कंपनी ने जिंदगी के साथ भी, जिंदगी के बाद भी, ऐसा नारा दिया था।

Wednesday, 29 September 2021

जीवन बीमा दीर्घकालीन आर्थिक सुरक्षा के अलावा जरूरी स्थिति के लिए वित्तीय जरूरत पूरी करने के लिए उपयोगी होता है।

             सोर्स of priyanka acharya

       आज की तारीख में कोरोनामहामारी के कारण सर्वत्र नौकरी जाने, टर्नओवर में गिरावट होने,
वेतन में कमी होने आदि जैसी अनेक अनिश्चिताएं है। परिवार में वित्त का प्रवाह घटने के कारण आवश्यकताएं
और इच्छाएं किस तरह पूरी करें, ऐसा प्रश्न खड़ा होता है। आज की तारीख में अस्तित्व टिकाए रखने की
प्राथमिकता है, तब अन्य सभी वस्तुएं गौण हो जाती हैं। ऐसे में जीवन बीमा पॉलिसी के पसंद का सवाल भी
पेचीदा बन जाता है।जीवन बीमा का निर्णय लेने में सहायक हो सके, ऐसे कुछ महत्वपूर्ण मुद्दे यहां पेश
किए गए हैं।
1) किसी को अच्छा लगने के लिए जीवन बीमा लेने की जरा भी जरूरत नहीं है।कोई महामारी हो या ना हो, आप जब सिर्फ किसी को अच्छा लगने के लिए जीवन
बीमा लेते हैं तब अपनी जरूरत की तुलना में सामने वाले का मन रखने का मुद्दा मुख्य होता है।इसके
कारण आप कम रिस्क कवर की पॉलिसी ले लें।किसी दूसरे के लिए नहीं, अपने परिवार की आर्थिक
सुरक्षा के लिए जीवन बीमा लेना होता है।वास्तव में हर व्यक्ति के ह्यूमन लाइफ वैल्यू के आधार पर
और आखिर तक प्रीमियम भरने की अपनी शक्ति के आधार पर जीवन बीमा पॉलिसी लेनी होती है।
2) कोरोना के कारण जीवन खर्च घट गया है।
 कोरोना के कारण सामाजिक प्रसंग लगभग बंद हो गए
है। बाहर का आना जाना भी काफी कम हो गया है।इन सभी के कारण दैनिक खर्च सिर्फ खाने पीने की
वस्तुओं पर ही होता है।नए कपड़े, जूते चप्पल आदि खरीदना, बाहर घूमने जाना, वैवाहिक खरीदी करना,
वीकएंड में बाहरगांव जाना यह सभी खर्च घट गए है। ऐसे में जो रकम बच गई है उसका उपयोग परिवार में
वित्तीय प्रवाहिता बनाए रखने, जीवन बीमा जैसी सुरक्षा लेने तथा निवेश करने के लिए हो सकता है।जीवन
बीमा दीर्घकालीन आर्थिक सुरक्षा के
अलावा अत्यावश्यक स्थिति के लिए वित्तीय जरूरत पूरी करने के लिए उपयोगी होता है।
3) आपके मन की उलझन दूर करने के लिए पेश है 20-20-20 प्लान निम्नलिखित तीन कदमों से
आपको काफी मदद मिल सकती है। कदम 1- मान ले कि आपने 20 वर्ष पहले ही जीवन सुरक्षा का तथा
निवेश का आयोजन कर लिया था और आज यह दूसरा वटवृक्ष बन गया है और आपको अतिरिक्त आय
मिल रही है।
कदम 2- यदि आप प्रथम कदम चूक गए हैं तो दूसरा कदम उठाएं। अपनी मौजूदा आय की 20% रकम
अलग रखें और इसमें से जीवन बीमा, आरोग्य बीमा, वाहन बीमा आदि ले ले और दीर्घ काल का निवेश शरू कर दें।आपने खर करने से पहले ही 20% रकम अलग रख दी होगी तो आपको जरा भी नहीं रखेगा  इस तरह से बचत करने की आदत परिवार के हर व्यक्ति में डालें।
कदम 3- दूसरे कदम में आपने 20% रकम अलग रख दी है और बाकी का खर्च80% रकम से चला
रहे हैं।आप बचा हुआ 20 % गिफ्ट वाउचर है, ऐसा मान ले। इस गिफ्ट वाउचर का उपयोग आगामी 20 वर्ष
के आयोजन के लिए करें। आपको कभी गिफ्ट वाउचर
मिला होगा तो आपने उससे अधिक से अधिक वस्तुएं खरीदने का प्रयास किया होगा, वास्तव में ना? इसी
तरह बची हुई 20% रकम से आगामी 20 वर्ष में अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए आवंटन करो।
उसमें से टर्म प्लान, बच्चों के लिए बीमा, निवृत्ति बाद की नियमित आय की योजना, एनयूटी योजना आदि का
समावेश होता है।
जीवन बीमा के बारे में थोड़ी चतुराई और अनुशासन की मदद से विचार करें तो काफी लाभ हो सकता
है. जीवन बीमा लेने का काम आगे बढ़ाना नहीं, बल्कि प्राथमिकता के साथ करना है।

Tuesday, 21 September 2021

ડીજીટલ છેતરપિંડી થી બચવા માટે અપનાવો આ સરળ ઉપાય

    
     બદલાતી ટેકનોલોજી અને આધુનિક શોધ-સંશોધનને કારણે માનવીનું જીવન અત્યંત સુવિધાયુક્ત બની ગયું છે પણ તેની સાથે માનવીને છેતરવાના કિસ્સા પણ
હવે સામાન્ય બની ચૂક્યા છે. 
ખાસ કરીને ડિઝિટલ ફ્રોડ સામે હવે બધાને સાવચેત
રહેવાની જરૂર છે. ડિઝિટલ ફ્રોડ વિશષ રોકાણકારોને સાવચેત કરવા વિગતવાર માહિતી આપવામાં આવી હતી હવે ડિઝિટલ ફ્રોડથી બચવાની કેટલીંક સ્પષ્ટ ટિપ્સ અહીં
આપવામાં આવેલી છે આ ટિપ્સ હવે દરેક માટે એકદમ જરૂરી નહીં પણ અનિવાર્ય બની ચૂકી છે.
સામાન્યજન પણ હવે ડિઝિટલાઇઝેશનના નવા યુગથી બચી શકે તેમ નથી કારણ કે ડિઝિટલાઇઝેશન હવે રોજબરોજની કામગીરી સાથે જોડાઇ ચૂક્યું છે જેને કારણે દરેકે ડિઝિટલ ફ્રોડ વિશે જાણવું જ પડશે.
» તમારો પીન (પર્સનલ આઈડેન્ટિફિકેશન નંબર), પાસવર્ડ અને ક્રેડિટ અથવા ડેબિટ કાર્ડ નંબર, સીવીવી ગુપ્ત રાખો.
» કાર્ડની વિગતો વેબસાઈટ્સ/ડિવાઈસીસ/ પબ્લિક લેપટોપ/ડેસ્કટોપ્સ પર સેવ કરવાનું નિવારો.
» જ્યાં સવુિધા ઉપલબ્ધ હોય ત્યાંટુ-ફેક્ટર
ઓથેન્ટિકેશન ચાલુ કરો.
» શંકાસ્પદ એટેચમેન્ટ અથવા ફિશિંગ લિન્ક્સ ધરાવતી અજાણ્યા સ્રોત પાસેથી આવેલા કોઈ પણ ઈમેઈલ ન ખોલો.
» તમારા ડિવાઈસને કદી અનલોક ન રાખો
» અજાણ્યા એપ્લિકેશન્સ અથવા સોફ્ટવેરને ઈન્સ્ટોલ ન કરો.
» અજાણ્યા ડિવાઈસ પર પાસવર્ડ્સ અથવા ગુપ્ત માહિતી રાખો નહિ.
» સલામત બ્રાઉઝિંગ માટે
» બિનસલામત વેબસાઈટ્સ પર જવાનું
નિવારો/
» અજાણ્યા બ્રાઉઝર્સ વાપરવાનું ટાળો.
» સાર્વજનિક ડિવાઈસ પર પાસવર્ડ સેવ કરવાનું ટાળો
» અજાણી વેબસાઈટ્સ પર સલામત માહિતી દાખલ કરવાનું નિવારો.
» સોશિયલ મીડિયા પર અજાણી વ્યક્તિઓને અંગત માહિતી આપવાનું નિવારો.
» રિડાયરેક્ટ કરતો ઈમેઈલ કે એસએમએસ હોય એવા કિસ્સામાં હંમેશા પેજની સલામતી ચકાસો.
» સલામત ઈન્ટરનેટ બેન્કિંગ માટે
» સાર્વજનિક ડિવાઈસીસ પર હંમેશ વર્ચ્યુઅલ કીબોર્ડનો ઉપયોગ કરો, કારણ કે હલકાં ડિવાઈસીસ અને કીબોર્ડ મારફતે કીસ્ટ્રોક્સને શોધી શકાય છે.
» ઉપયોગ કરી લીધા બાદ તરત જ ઈન્ટરનેટમાંના બેન્કગ સેશનમાંથી  લોગઆઉટ કરો.
» સમયાંતરે પાસવર્ડ અપડેટ કરતા રહો.
» ઈમેઈલ અને ઈન્ટરનેટ બેન્કિંગ માટે એક જ પાસ વર્ડનો ઉપયોગ ન કરો.
» નાણાકીય વ્યવહારો માટે પબ્લિક ટર્મિનલ્સનો ઉપયોગ કરવાનું ટાળો.
» ઈમેઈલ એકાઉન્ટની સલામતી માટે
» અજાણ્યા સરનામેથી આવેલા ઈમેઈલ્સ ક્લિક ન કરો.
» સાર્વજનિક અથવા ફ્રી નેટવર્ક્સ પર ઈમેઈલ્સનો ઉપયોગ કરવાનું નિવારો.
» ઈમેઈલ્સમાં તમારી સલામત માહિતી/બેન્ક પાસવર્ડ્સ વગેરે ન સંઘરો.
» પાસવર્ડની સલામતી માટે આંકડા સાથેના મૂળાક્ષરો (આલ્ફાન્યુમેરિક) અને સ્પેશિયલ કેરેક્ટર્સ તમારા પાસવર્ડમાં ઉમેરો.
» જો સુવિધા ઉપલબ્ધ હોય તો ફેક્ટર ઓથેન્ટિફિકેશન્સ રાખો.
» સમયાંતરે પાસવર્ડ બદલતા રહો.
» ડિપોઝિટ લઈ રહેલી એનબીએફસી સાચી છે કે નહિ એ તમે કઈ રીતે જાણશો?
» ડિપોઝિટરે https://rbi.org.in પર ઉપલબ્ધ ડિપોઝિટ સ્વીકારવાની છૂટ ધરાવતી એનબીએફસીની યાદીમાં કંપનીનું નામ છે કે નહિ તે ચકાસવું
જોઈએ અને એની ખાતરી કરવી જોઈએ કે સંબંધિત એનબીએફસીનો સમાવેશ ડિપોઝિટ સ્વીકારવાની જેમને
મનાઈ ફરમાવવામાં આવી હોય એવી કંપનીઓની યાદીમાં નથી.
» એનબીએફસીએ તેની સાઈટ પર રિઝર્વ બેન્ક દ્વારા ઈશ્યુ કરવામાં આવેલા સર્ટિફિકેટ ઓફ રજિસ્ટ્રેશનને નજરે ચડે એ રીતે દર્શાવવું જોઈએ. આ
સર્ટિફિકેટમાં ડિપોઝિટ્સ સ્વીકારવાની મંજૂરી આપવામાં આવી હોવાનો ખાસ ઉલ્ખ હોવો જોઈએ. લે ડિપોઝિટરોએ આ સર્ટિફિકેટની ચકાસણી કરી એની ખાતરી કરવી જોઈએ કે કંપનીને ડિપોઝિટ સ્વીકારવાની માન્યતા પ્રાપ્ત છે.
» એનબીએફસી 12 મહિનાથી ઓછા સમયગાળા માટે અને 60 મહિનાથી અધિક સમયગાળા માટે ડિપોઝિટ
સ્વીકારી શકતી નથી અને તે ડિપોઝિટરને 12.5 ટકાથી અધિક દરે વ્યાજ આપી શકે નહિ.
» રિઝર્વ બેન્ક વ્યાજદરોમાં ફેરફાર https://rbi.org.in પરના સાઈટ મેપમાં એનબીએફસી લિસ્ટ વિભાગમાંના એફએક્યુઝમાં પ્રસિદ્ધ કરે છે.

Saturday, 11 September 2021

कोनसा बीमा, कैसा बीमा, बीमा के बारे में अधिक जानकारी आपको अवश्य लेनी चाहिए।

      आज हम अलग-अलग जीवन बीमा पॉलिसी के बारे में महत्वपूर्ण मुद्दों पर नजर डालते हैं, जो आपको
आप की आवश्यकता अनुसार उचित पॉलिसी लेने में सहायक होगा।
1. होल लाइफ एंडोवमेंट:हेतु: 
इस पॉलिसी का हेतु जीवन के मध्य भाग में अथवा निवृत्ति के बाद नियमित आय प्रदान करना है।
रिटर्न कहां तक मिलेगा: प्रीमियम अदा करने की समयावधि पूरी होने के बाद भी 100 वर्ष की उम्र तक
नियमित आय प्राप्त कर सकते हैं।आज से 15 -20 वर्ष पहले दी गई पॉलिसियों में अधिकतम उम्र 80 वर्ष की ही रखी गई थी।
पॉलिसी धारक की मृत्यु की स्थिति में नॉमिनी को बीमा की रकम(सम एस्योर्ड ) और जमा हुआ बोनस
यह दोनों रकम एक साथ मिलती है।
यदि संपत्ति का राइडर लिया हो तो बीमा की रकम दुगनी मिलेगी।बोनस इतना ही मिलेगा।
2. टर्म प्लान:
 टर्म प्लान प्रतिफल के लिए नहीं होता इसका हेतुसिर्फ रिस्क कवर देना है।इससे इसका प्रीमियम
अन्य प्लान की तुलना में काफी कम होता है।
रिटर्न. प्रकार की पॉलिसी में पॉलिसी धारक परिपक्वता अवधि के बाद जीवित रहे तो भी उसको
कोई रिटर्न नहीं मिलता है।पॉलिसी धारक की मृत्यु की स्थिति में नॉमिनी को बीमा की रकम मिलती है।
3) मनी बैक पॉलिसी:
हेतु: बीमा के कवच के साथ-साथ 5 वर्ष के समयांतर पर आपको प्रतिफल चाहता हो तो यह पॉलिसी
उपयोगी होती है।
प्रतिफल: हर 5 वर्ष पर बीमा की रकम का कुछ प्रतिशत रकम प्रतिफल के रूप में मिलती है।पॉलिसी की परिपक्वता अवधि पर अंतिम किस्त बोनस के साथ मिलती है। पॉलिसी धारक की मृत्यु की स्थिति में बीमा की रकम तथा जमा हुआ बोनस नॉमिनी को मिलता है।
4) एंडोवमेंट प्लान:
हेतु: इस प्लान का हेतुनियमित बचत के साथ-साथ निवृत्ति का फंड एकत्र करना और बीमा का कवच
लेना है।
प्रतिफल: पॉलिसी पूरी होने पर एकमुश्त बड़ी रकम मिलती है।यदि पॉलिसी धारक चाहे तो परिपक्वता
अवधि पर मिलने वाली रकम किस्तों में भी वापस प्राप्त की जा सकती है।
इस विकल्प को सेटलमेंट ऑप्शन कहां जाता है जिसमें पॉलिसी धारक बीमा कंपनी के पास जो रकम रहने दे
उस पर ब्याज भी मिलता है।पॉलिसी धारक की मृत्यु की
स्थिति में नॉमिनी को बीमा की रकम तथा जमा हुआ बोनस मिलता है।यह रकम पूरी पूरी लेने के बदले किस्त मैं लेने की सुविधा भी मिलती है।
5. तत्काल एनयूटी के साथ सिंगल प्रीमियम पेंशन प्लान:
हेतु: ब्याज दर बदलने की चिंता पर मुक्त होकर पेंशन प्राप्त करने के लिए यह पॉलिसी ली जाती है।
दादा- दादी, या माता पिता इस प्रकार की पॉलिसी बच्चों को भेंट देकर इसमें मिलते पेंशन से बच्चों के
एंडोवमेंट पॉलिसी का प्रीमियम अदा कर सकते हैं।
प्रतिफल: इस प्रकार की पॉलिसी में तत्काल पेंशन मिलना शरू हो जा ती है।गौरतलब है कि पेंशन की आय पॉलिसी धारक को लागू होते आयकर के स्लैप के अनुसार कर पात्र होती है।पॉलिसी धारक की मृत्यु की स्थिति में एनयूटी के अनेक विकल्प होते हैं।
यदि पॉलिसी की परचेज प्राइस वापस मिले ऐसा विकल्प रखा गया है तो पॉलिसी धारक के नॉमिनी को यह रकम भी मिलती है।
6. डिफल्ड एनयूटी के साथ का सिंगल प्रीमियम पेंशन प्लान:
हेतु: पॉलिसी धारक थोड़े वर्षों तक रकम जमा कर इसे बढ़ने दे सकता है और बाद में आजीवन नियमित पेंशन प्राप्त कर सकता है।
प्रतिफल: तत्काल पेंशन लेने के बदले देर से पेंशन की आय लेना शरू  करने का फायदा यह है कि इसमें
एनयूटी अधिक मिलती है।पॉलिसीमें मिलते गारंटीड एडिशन के कारण पहले से ही रकम जमा होने लगती है। इससे इस पॉलिसी में पैसा ब्लॉक हो गया, ऐसा विचार नहीं करना चाहिए।
पॉलिसी धारक की मृत्यु की स्थिति में यदि परचेज प्राइस वापस मिलने का विकल्प रखा गया हो
तो नॉमिनी को यह रकम मिलती है और इसके अलावा पॉलिसी में पहले से बताया गया गारंटीड एडिशन भी
मिलता है।
7. बच्चों का प्लान:
हेतु: पहले से अनुशासित बचत द्वारा संतान की भावी जरूरत पूरी करने के लिए इस प्रकार की पॉलिसी
ली जाती है।
प्रतिफल: सामान्य रूप से संतान की उम्र 18 वर्ष की होने से लेकर 25 वर्ष की उम्र तक अलग-अलग चरण
में पूर्व निर्धारित रकम टुकड़े- टुकड़े में या एकमुश्त मिलती है।
पॉलिसी पूरी होने पर बीमा की रकम और जमा हुआ बोनस मिलता है।
8. आरोग्य योजनाएं:
हेतु: यह पॉलिसी मेडिक्लेम नहीं होती।कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के सामने आर्थिक सुरक्षा देने के लिए
अथवा हॉस्पिटलाइजेशन के खर्च को पूरा करने की यह पॉलिसी होती है।
प्रतिफल: कुछ निश्चित गंभीर बीमारी की स्थिति में हॉस्पिटलाइजेशन या उपचार का खर्च पूरा किया जाता है और कई बार एकमुश्त रकम भी अदा की जाती है। इसके लिए पॉलिसी को बराबर समझ लेना जरूरी है।इस पॉलिसी के तहत के लाभ ध्यान पूर्वक
पढ़ लेने और समझ लेने की जरूरत होती है।
यह प्लान आरोग्य योजना होने से इसमें प्रतिफल नहीं मिलता।कुछ प्रकार के कैंसर की पॉलिसी होने से
नॉमिनी को डेथ बेनिफिट मिलता है।उपरोक्त मद्दों के आधार पर आप पॉलिसी लेने का निर्णय ले सकते हैं.
बीमा लेते समय ध्यान में रखें कि इसमें हमेशा प्रतिफल की तुलना में आर्थिक सुरक्षा के तत्व को अधिक
महत्व देना चाहिए.

Friday, 10 September 2021

बीमा किया है। और उसे कराने की किया जरूरत है।

Technology Used by Successwful Businesses



 बीमा क्या है?

 बीमा को बीमाधारक से बीमाकर्ता को जोखिम के हस्तांतरण के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।

 बीमित व्यक्ति (या फर्म या कंपनी) जोखिम का सामना करता है, जो जोखिम को बीमा कंपनी को हस्तांतरित करता है, जो जोखिम की धारणा में विशेषज्ञ है और जोखिम को स्वीकार करता है।

 बीमाकर्ता "प्रीमियम" नामक शुल्क के लिए जोखिम स्वीकार करता है।

 बीमाकर्ता नुकसान का आकलन करता है और "प्रीमियम" के लिए जोखिम को 'अंडरराइट' करता है।

 सुरक्षा के रूप में बीमा सभी मनुष्यों की आवश्यकता है।

 मनुष्य अनिश्चितता, भय और मृत्यु से डरता है।  हालाँकि यह एक सच्चाई है, कि एक दिन हर एक की मृत्यु होगी;  जल्दी या बाद में, समय पर या असामयिक प्रश्न है, जिसका कोई उत्तर नहीं है।

 मनुष्य भविष्य में जोखिम और हानि से डरता है।

 मनुष्य हमेशा सुरक्षा और निश्चितता की तलाश में रहता है।

 प्रारंभिक इतिहास में मनुष्य सुरक्षित रहने के लिए एक संयुक्त परिवार, समूहों और समुदायों में रहता था।

 पहले के दिनों में, जब भी कोई कमाने वाला सदस्य बीमारी या मृत्यु के कारण मर जाता था, तो सामाजिक समूह (या परिवार या कबीले) का अन्य सदस्य परिवार में बचे लोगों को वित्तीय कठिनाइयों से उबारने में योगदान देता था।  यह योगदान भोजन-वस्त्र और आश्रय के रूप में था।

 बाद में, जैसे-जैसे व्यावसायिक विचार मजबूत और मजबूत होते गए;  नाभिकीय पारिवारिक विकास एक सामान्य प्रथा बन गई, और ये योगदान और साझाकरण व्यक्तिवादी होने लगे।

 'आश्वासन' जो पहले एक सामान्य प्रथा थी, अब दुर्लभ हो गई।

 यह बीमा के विकास की अवधारणा है।