Tuesday, 29 December 2020

सकारात्मक विचार

समय का खर्च अपने बहुत 
ही जरूरी काम पर ही करे।
क्योंकि समय बहुत ही
कीमती है।
याद रखे इस दुनिया में आप
अकेले नहीं हैं
बल्कि इश्वर सदा आपके साथ हैं
हर कोई चाहता है कि मै विजेता
बनु लेकिन बहुत कम लोग
विजेता बनने केलिए
महेनत करने की चाहत
रखते है।
समय के महत्त्व को जान लीजिए
और उसका बड़ी सख्ती से पालन करें।
अपनी नजर लक्ष्य की और केंद्रित
करे, खाय की और नहीं,
रास्ते पर नजर रखे।
अपने आप को सबसे सक्षम
व्यक्ति मान कर आगे बढ़ी ये।
सभी रास्ते आपके लिए है।
बहुत ही उतावला निर्णय लेने
से पहले सभी आवश्यक
जानकारी लीजिए, ताकि आपको
सरमिंदा न होना पड़े।
नापसंद काम को पहले करे
इससे आपकी थकान कम हो हाएगी।
कोई भी काम आनंदित होकर करे
इससे आपको खुशी मिलेगी
और ताकत एवम तनाव पर
नियंत्रण किया जा सकता है।
नियमित रूप से व्ययायम करे
और पोषण युक्त भोजन करे।
जिससे आपका मन और शरीर दोनों
तंदुरस्त रहते है।
अंधकार को कोसने की बजाय
एक मोमबत्ती जलाने का प्रयास करें।
आशा और उम्मीद बादलों की तरह है,
कुश चले जाते है,लेकिन कुश बरस भी
जाते हैं। इसलिए मनमे हमेशा एक अच्छा
सपना देख और उसे अपने दिमाग मे
चित्रांकन कीजिए।

अपनी गलतियों केलिए दूसरों को
दोषी न ठहराए, टिक्का टिप्पणी
के असरदार तरीके से निवारण
करे।

कोइ भी काम शुरु करने के
डर पर आक्रमण करे।
विजेता बनने केलिए पहले
आरम्भ करता बने।
जोशीले रहे, होशियार रहे, अपने आपको
प्रेरित रखे और मुश्किल समय के
बारेमे सोचना बंद करें।
अपने आपको एक कठिन व्यक्ति के
रूप में देखे,जो सबसे सकारात्मक
उपाय को सफल करने में कठिन महेनत
करता है।
विश्वास करे कि आप के पास जो 
जो सामर्थ्य हैं, जिसके बारे में आपने
कभी सोचा भी नहीं होगा।
आपके पास इतनी ताकत है,जो आप 
सोचेंगे वहीं आप हासिल कर सकते हो।
अपने दिमाग को हमेशा ये संदेश देते रहे
कि
हर समस्या का समाधान हैं,
इस दुनिया में कुश भी असम्भव नहीं हैं।











Friday, 11 December 2020

Lic, history of claim statement ratio


     LIC was formed in the year 1956 when the Life Insurance Corporation Act was passed to nationalise life insurance business in India. From 1956 to the year 2000 LIC was the sole life insurance provider in India enjoying monopoly position. Though other private insurance companies entered the insurance segment from 2000, LIC retained its leading market position. Even today, LIC has the largest market share among other life insurance companies and enjoys the trust of more than 250 million customers.


LIC offers a range of life insurance products like term insurance, endowment insurance, money back plans, child plans, unit-linked plans, etc. Even health insurance plans are offered by the company which help you meet the rising medical costs of common ailments. All the plans offered by the company have very good coverage benefits and the premiums are also low. Even in the case of claims, LIC believes in settling its customers’ claims quickly and efficiently. This is the reason why the company has been consistently enjoying a high Claim Settlement Ratio. Do you know what the ratio means?


What is Claim Settlement Ratio?

Claim Settlement Ratio (CSR) is the percentage of claims which an insurance company settles against the total number of claims made on it in one financial year. For instance, if, out of 100 claims in a financial year, the insurance company settles 95 claims, the CSR would be 95%. If the ratio is high it shows that the company settles the maximum of its claims and it is a good indicator.


LIC Claim Settlement Ratio history

As stated earlier, LIC has maintained a good CSR over the years and this is one reason why customers trust LIC. Here are LIC Claim Settlement Ratio over the last few years –

Financial yearNumber of claimsNumber of claims settledLIC Claim Settlement Ratio
2017-18739,082724,59698.04%
2016-17769,386756,39998.31%
2015-16761,983749,24998.33%
2014-15755,901742,24398.19%
2013-14760,344746,21298.14%
2012-13750,576733,54597.73%
2011-12731,136712,50197.42%

As can be seen from the above table, LIC maintained a ratio of more than 98% in most of the financial years leading the claim settlement race among other insurers. This shows that the company honours its claims without fail.

Analysis of LIC Claim Settlement Ratio of 2017-18

In the last financial year of 2017-18, LIC Claim Settlement Ratio was quite high at 98.04%. Out of the claims received under 739,082 policies, LIC settled claims under 724,596 policies thus having such a high ratio. The company rejected 0.67% of its claims while 0.08% of the claims were still pending when the financial year ended. 1.21% of the claims were unclaimed by the policyholders. Out of the claims settled during 2017-18, here’s the claim turn-around-time followed by LIC –

  • Claims settled in less than 3 months – 45.17%
  • Claims settled in 3 months to less than 6 months – 44.64%
  • Claims settled in 6 months to less than 12 months – 3.51%
  • Claims settled in more than 12 months – 6.68%

LIC has been operating since the last 60 years and more and has built up a good claim settlement department which helps the company settle most of its claims. This high claim settlement record also garners trust among policyholders who favour LIC for their insurance needs. So, if you are considering buying a life insurance policy, you can trust LIC and choose a suitable plan for your coverage needs.

Frequently Asked Questions

  1. Does claim settlement ratio measure the amount paid in claims?
    No, the claim settlement ratio is used to measure the number of policies under which the claims have been paid. The ratio has nothing to do with the amount of claim paid by the insurance company.
  2. What is the meaning of pending claims?
    The claim settlement ratio is calculated by considering the number of claims settled by the insurance company in one financial year. If, however, a claim has been made on the insurance company and the company is unable to settle it within the completion of the financial year, the claim which has been made would be considered a pending claim. The insurance company would carry forward the claim to the next financial year and settle it in that year.
  3. If an insurance company has a low claim settlement ratio does it mean that the company is bad?
    No, a low claim settlement ratio does not necessarily mean that the insurance company is bad. There might be some reasons for a low ratio. For instance, most of the company’s claims could have been made in the last days of the financial year which the company could not settle within that year itself. This would make such claims pending and reduce the claim settlement ratio.
  4. Who publishes the claim settlement ratio?
    The Insurance Regulatory and Development Authority of India publishes the claim settlement ratio of all life insurance companies for each financial year.

Monday, 16 November 2020

ભારતીય જીવન વિમા નિગમ ની જીવન આનંદ યોજના

       
      જો તમે પણ એલઆઇસી ( LIC ) ની કોઇ પોલીસી લેવા વિશે વિચારી રહ્યાં હોવ તો આજે અમે તમને એક એવા પ્લાન વિશે જણાવીશું જેમાં તમારે દરરોજ 63 રૂપિયા આપવાના છે.તેની ખાસ વાત એ છે કે ઓછી કમાણી કરતા લોકો આ પ્લાનને આરામથી લઇ શકે છે . દરરોજના 63 રૂપિયા ઓછી સેલરી વાળા લોકો પણ ભરી શકે છે . આ ખાસ પ્લાનનું નામ એલઆઇસી જીવન આનંદ wicz 89. ( LIC Jeevan Anand Policy ) તમને આ પ્લાન વિશે ડિટેલમાં જણાવીએ 

 

   આ પોલીસીની ખાસિયત
 • LIC જીવન આનંદ પોલીસીમાં રોકાણ કરવા માટે તમારી ઉમર ઓછામાં ઓછા 26 વર્ષ હોવી જોઇએ .
 • આ પ્લાન 25 વર્ષે રિટર્ન ઓફર કરે છે .
 • બોનસ સુવિધા , લિક્વિડિટી અને રોકાણ પ્રમાણે આ LIC ની સૌથી સારી પોલીસીમાંથી એક માનવામાં આવે છે . 
• આ પોલીસી અંતર્ગત મિનિમમ સમ એશ્યોર્ડ 1 લાખ રૂપિયા છે અને મહત્તમની કોઇ સીમા નથી .
 • આ ઉપરાતં રોકાણકારનું રિસ્ક પણ કવર કરવામાં આવે છે . 
• આ એક એડામેંટ પોલીસી છે , એટલે કે રોકાણકારને રોકાણ અને વીમા બંનેનો લાભ મળે છે . પોલીસી પીરિયડ ન્યૂ જીવન આનંદ પ્લાન માટે પોલીસીનો પીરિયડ 15 થી 35 વર્ષનો છે .
LIC ની ન્યૂ જીવન આનંદ પોલીસીને તમે ઑફલાઇનની સાથે ઑનલાઇન પણ ખરીદી શકો છો . પ્રીમિયમની ચુકવણી આ પોલીસી માટે વાર્ષિક , 6 મહિના , ત્રિમાસિક અને માસિક આધારે પ્રીમિયમની ચુકવણી કરી શકાય છે . પોલીસી ખરીદ્યાના 3 વર્ષ બાદ તમે તમારી જ પોલીસીથી લોન લઇ શકો છો .
દા.ત.
ઉમર -26 
મુદત -21
બે ગણી અકસ્માત વિમા રકમ -400000 
• કુદરતી વિમા રકમ-500000 
મુળ વિમા રકમ -400000
 પ્રથમ વર્ષ 4.5 ટકા ટેક્સ સાથે 
વાર્ષિક : 22567 ( 21595 + 972 ) 
અર્ધવાર્ષિક : 11400 ( 10909 +491) 
ત્રિમાસિક : 5758( 5510+248 ) 
માસિક : 1920( 1837 + 83 ) 
એવરેજ પ્રીમિયમ / પ્રતિ દિવસ : 61
     કેવી રીતે મળશે ૮ લાખ રૂપિયા
 માની લો કે જો કોઇ વ્યક્તિ 26 વર્ષની ઉમરમાં 20 વર્ષના ટર્મ પ્લાનમાં રોકાણ શરૂ કરે છે .
 આ સાથે જ 400000 રૂપિયાની વિમા રાશી પસંદ કરે છે . તેવામાં તમારે પહેલા વર્ષે 22567 રૂપિયાનું પ્રીમિયમ ચુકવવુ પડશે જે દર મહિનાના હિસાબે 61રૂપિયા થશે .
   તે બાદ બીજા વર્ષે પ્રીમિયમ ઘટી જશે કારણ કે ટેક્સ દર 2.25 ટકા થઇ જશે . આ હિસાબે પ્રતિ વર્ષ 22081 રૂપિયા એટલે કે દરરોજ 60 રૂપિયાનું રોકાણ થશે . આ પ્રીમિયમ તમારે 21વર્ષ સુધી ભરવાનું થશે . તે બાદ મેચ્યોરિટી પર 826000જેવા રૂપિયા મળશે . ટેક્સ બેનિફિટ્સ આવકવેરા અધિનિયમની ધારા 80C અંતર્ગત પ્રીમિયમ પેમેન્ટ માટે ટેક્સ બેનિફિટ પણ મળે છે . મેચ્યોરિટી અથવા મૃત્યુ વખતે મળતી રકમ પર પણ કોઇ ટેક્સ ચુકવવાનો થતો નથી.
અમારી વેબસાઇટ
https://www.licmtd.com

Official website
https://www.licindia.in
Email-licmtd@gmail.com
Mo-7990043171

Our YouTube channel

https://www.youtube.com/channel/UCLkW2syGXO1LKzGpwYfdB1w



Friday, 28 August 2020

વીમા કંપનીઓ માન્ય પીયુસી પ્રમાણપત્ર ન રાખવાના કારણે થતા દાવાને નકારી શકે નહીં




પ્રદૂષણ નિયંત્રણ પ્રમાણપત્ર હેઠળનું પ્રદૂષણ સૂચવે છે કે વાહનનું ઉત્સર્જન પ્રમાણભૂત પ્રદૂષણના ધોરણો સાથે ગોઠવાયેલું છે અને તે પર્યાવરણ માટે હાનિકારક નથી.


 આઈઆરડીએઆઈ, વીમા નિયમનકારે સ્પષ્ટ કર્યું કે મોટર વીમા કંપની માન્ય પીયુસી અથવા પોલ્યુશન અંડર કંટ્રોલ સર્ટિફિકેટ ન રાખવાના કોઈપણ દાવાને નકારી શકે નહીં.  પીયુસી પ્રમાણપત્ર એવા વાહનોને આપવામાં આવે છે કે જેઓ પીયુસી પરીક્ષણ સફળતાપૂર્વક પસાર કરે છે.


 Puc પ્રમાણપત્ર સૂચવે છે કે વાહનના ઉત્સર્જન પ્રમાણભૂત પ્રદૂષણના ધોરણો સાથે ગોઠવાયેલા છે અને પર્યાવરણ માટે નુકસાનકારક નથી.  ભારતીય રસ્તાઓ પરના તમામ વાહનો માટે માન્ય પીયુસી પ્રમાણપત્ર રાખવું ફરજિયાત છે.


 આઈઆરડીએઆઈએ August ઓગસ્ટના રોજ રજૂ કરેલી રજૂઆતમાં મોટર વાહન વીમાના નવીકરણ સમયે માન્ય પીયુસી પ્રમાણપત્ર અંગે release ઓગસ્ટના રોજ કરેલી રજૂઆતમાં જણાવ્યું હતું કે, અહીં સ્પષ્ટતા કરવામાં આવી છે કે માન્ય પીયુસી પ્રમાણપત્ર ન રાખવું એ મોટર વીમા પોલિસી હેઠળ કોઈ દાવાને નકારવાનું માન્ય કારણ નથી.


 આઈઆરડીએઆઈએ સ્પષ્ટતા સાથે કેટલાક ભ્રામક મીડિયા અહેવાલો વચ્ચે જણાવ્યું હતું કે અકસ્માત સમયે માન્ય પીયુસી પ્રમાણપત્ર ન હોય તો મોટર વીમા પોલિસી હેઠળનો દાવો વીમા કંપની દ્વારા ચૂકવવાપાત્ર નથી.  જો કે, મોટર વાહન વીમાના નવીકરણ સમયે ફરજિયાત દસ્તાવેજ તરીકે માન્ય પીયુસી પ્રમાણપત્ર આવશ્યક છે.


 સામાન્ય વીમા કંપનીઓએ ખાતરી કરવી આવશ્યક છે કે મોટર વાહન વીમાના નવીકરણ સમયે વાહન પાસે માન્ય પીયુસી પ્રમાણપત્ર હોવું આવશ્યક છે.  .


 ઓગસ્ટ 2017 માં, સર્વોચ્ચ અદાલત એમ.સી.  મહેતા વિ યુનિયન ઓફ ઇન્ડિયા અને અન્ય કેસોએ વીમા કંપનીઓને વીમા પોલિસીના નવીકરણની તારીખે માન્ય પીયુસી પ્રમાણપત્ર ન હોય ત્યાં સુધી વાહનનો વીમો ન લેવાનો નિર્દેશ આપ્યો હતો.  દરેક વાહન માલિક માટે સૂચિત ઉત્સર્જનના નિયમોનું પાલન કરવા માટે માન્ય પીયુસી પ્રમાણપત્ર હોવું ફરજિયાત છે.  આવા સર્ટિફિકેટ વિનાના વાહન પર મોટર વાહન અધિનિયમ હેઠળ કાર્યવાહી કરવામાં આવશે.

Thursday, 27 August 2020

क्लेम भुगतान के मामले में भारतीय जीवन बीमा निगम सर्वश्रेष्ठ क्यों है

*एलआईसी क्युं बेस्ट है*

*पढिये और जानिये*

*'क्लेम भुगतान के मामले में भारतीय जीवन बीमा निगम सर्वश्रेष्ठ क्यों है"*

*कुछ लोग ये जरूर जानना चाहते होंगे कि क्या LIC कोरोना वायरस की वजह से होने वाली मौत को कवर करेगी या नहीं।*

*इस संदर्भ में आपको सबसे पहले एक शब्द को समझना होगा*

 *"FORCE MAJEURE"*

*ये "FORCE MAJEURE" क्या है?*

Force Majeure एक फ्रेंच शब्द है जिसका मतलब है "Greater Force".

यह एक शर्त है जिसे जीवन बीमा कॉन्ट्रैक्ट में जोड़ा जाता है जिससे प्राकृतिक और अपरिहार्य आपदाओं से होने वाली मृत्यु की जिम्मेदारी को जीवन बीमा पॉलिसी से हटाया जा सके;
*उदाहरण के लिए; युद्ध, महामारी, सुनामी, भूकंप इत्यादि।*

हमारे प्रिय संस्थान *भारतीय जीवन बीमा निगम के जीवन* बीमा में " FORCE MAJEURE" नामक कोई शर्त नही है। जबकि ज्यादातर प्राइवेट इन्शुरेन्स कंपनियों में ये क्लॉज़ विशेष रूप से जोड़ा जाता है। जो कि पूरी तरह से *ग्राहक हितों के खिलाफ है।*
*दुर्भाग्यवश किसी भी ग्राहक को इस Force Majeure क्लॉज़ के बारे में जानकारी नहीं होती।* भारतीय जीवन बीमा निगम किसी भी प्रकार की आपदा, महामारी, युद्ध, सुनामी या भूकंप की स्थिति में भी क्लेम का भुगतान करती है।

*अब क्या आपने प्राइवेट इन्शुरन्स कंपनी से बिमा कराया है। तो लाक डाउन का फायदा ले और अपना पोलिसी बांड भी पढ सकते हैं।*
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
 LICMTD  एजेंट्स  यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे और एलआईसी से सम्बंधित वीडियो पाये
 
https://youtu.be/U446WoUlg1k

Tuesday, 28 July 2020

अब आपका मोबाइल आपको बताएगा कि कैसे पता करें कि कुछ भी नकली या वास्तविक है?

अब यदि आप ISI या हॉलमार्क मार्क वाली कोई भी वस्तु लाने के लिए बाजार जाते हैं, तो आप तुरंत रिपोर्ट कर सकते हैं कि सामान असली है या नहीं ।
BIS केयर एक मोबाइल एप्लिकेशन का नाम है।  भारतीय मानक ब्यूरो ने आज बीआईएस केयर नामक एक मोबाइल एप्लिकेशन लॉन्च किया है।  यह एप्लिकेशन उपभोक्ताओं को वास्तविक और नकली सामान के बीच अंतर करने में मदद करेगा।  उदाहरण के लिए, यदि आप एक प्रशंसक या कुछ और खरीदने के लिए बाजार जाते हैं, तो उसके पास आईएसआई मार्क है।  यदि आपको संदेह है कि पंखा एक ऐसे ब्रांड का है, जिस पर कोई नाम नहीं लिखा है, तो आप BIS केयर नामक इस एप्लिकेशन पर ISI मार्क नंबर लिखकर ब्रांड और उस कंपनी की पूरी जानकारी देख सकते हैं।
ब्रांड और मालिक सहित नंबर लिखने के साथ।  आपके मोबाइल ऐप पर कंपनी के बारे में पूरी जानकारी सामने आ जाएगी।  ऐप कहेगा कि सोना असली है या नहीं इस ऐप से सोने की सत्यता की भी जाँच की जा सकती है।  सोने के आभूषणों की हॉलमार्किंग अनिवार्य करने का निर्णय लिया गया है, जो अगले साल एक जनवरी से लागू होगा।  इस मोबाइल ऐप पर एक सोने की हॉलमार्किंग नंबर रखकर यह देखा जा सकता है कि सोना असली है या नहीं।  केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने आवेदन को लॉन्च करते हुए कहा कि सरकार ने उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा के लिए कई कदम उठाए हैं और उपभोक्ताओं को अपने अधिकार का प्रयोग करना चाहिए।

आवेदन पर शिकायतें भी दर्ज की जा सकती हैं आवेदन की एक और विशेषता यह है कि यदि आपको माल नकली लगता है, उसी समय आप इस आवेदन के साथ अपनी शिकायत भी दर्ज कर सकते हैं।  मोबाइल ऐप को किसी भी एंड्रॉइड फोन पर डाउनलोड किया जा सकता है।  ऐप अब हिंदी और अंग्रेजी में उपलब्ध होगा और इसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है।

Saturday, 27 June 2020

કેન્સર થવા માટે કેટલીક જવાબદાર ટેવો અને તેને ટાળવા શું કરવ,

કેન્સર...
Our YouTube channel
https://www.youtube.com/channel/UCLkW2syGXO1LKzGpwYfdB1w

કેન્સરના ઇલાજની બાબતમાં વિશ્વ ઘણું જ આગળ નીકળી ગયુ છે છ્તા પણ આજે સૌથી ભયાનક રોગની શ્રેણીમાં પ્રથમ નંબરે આવે છે કારણ કે કેન્સ્રરના દર્દીને શારીરીક દર્દ ઉપરાંત

કેન્સરનો માનસીક ડર સમય પહેલા ખતમ કરી નાખે છે. મોટાભાગે કેન્સર સામેની લડાઇ બાળકો અને બહેનો વધુ જીતતા હોય છે કારણ શુ હોય શકે તે આપને બધાને ખબર જ છે.

હમણાં થોડા મહીનામાં જ રાજકોટના બે હોનહાર પમ્પ ઉધ્યોગપતીઓને આ કર્ક રોગ ભરખી ગયો... જેમના કુળદીપકોએ વિદાય લીધી હોય તેવા કુટુંબોની ઘરે જઇને તેમની વેદના એકવાર સાંભળજો... તમારા વ્યસન એકઝાટકે છુટી જશે.

કેન્સર ઓટોઇમ્યુન ડીસીઝ છે એટ્લે ઘણાં બધા કારણોથી થઇ શકે છે પણ આપને જાણીને અચંબો થશે કે કેન્સર મોટેભાગે અન્ય ક્રોનીક ડીસીઝની જેમ વારસાગત પણ આવે છે.

અત્યારે થતા કેન્સરમાં આધુનીક વિજ્ઞાનનો પણ મોટો ફાળૉ છે. જીનેટીકલી મોડીફાઇડ બીયારણ ,નિંદામણનાશક દવાઓ, જંતુનાશક દવાઓ અને રાસાયણીક ખાતરોનો મોટો ફાળો છે.ગુટકા અને તંબાકુ એ હમણા આ રોગ પર મોનોપોલી ધરાવી છે અને આપણી આ સરકારને રેવન્યુની એટલી બધી લાલચ છે કે આ દૈત્યના કારખાનાઓને બધી છૂટ આપે છે. ખાલી ટેક્ષ વધારવાથી વેચાણ પર પ્રતીબંધ લાદવાથી આ વ્યસનનો દૈત્ય કાબુમાં ના આવે. ફક્ત એક જ વાત નો પ્રોડકશન ઓફ ટોબેકો પ્રોડક્ટ્સ.સરકાર પાસે કેટલા લોકો તંબાકુનુ સેવન કરે છે ,કેટલી ઉમરના લોક તંબકુનું સેવન કરે છે તેના આંકડા છે પણ બંધ કરવાના આંકડા નથી. અરે આ તમાકુની પ્રોડકટ ના ટેક્ષને અન્ય પ્રોડક્ટ પર લાદી શકાય.
આપણાં ભારતીય લોકોની વાત કરીએ તો ૧૦૦એ ૯૯ લોકોને હોંશે હોંશે ઝેર ખાવુ છે... !!! કારણ કે લોકોને ઓર્ગેનીક વસ્તુઓના દામ આપતા દાખડો પડે છે અને તેજ લોકો ડોમીનોઝ પીઝા ૮૦૦-૧૦૦૦ માં એક ટાઇમ ખાઇ આવશે. અરે લોકડાઉન મા તો કેટલાક લોકો એ તો 100 રૂપિયા ની બીડી આને 50 રૂપિયા માં માવા લીધેલા, ત્યારે ન મોંધવારી નડી કે ન સ્વાસ્થ્ય ની ચિંતા કરી , ખોરાકમાં ફેરફાર કરીએ તો પણ આ દૈત્યથી બચી શકાય પણ લોકો ખુબ જ નજર અંદાજ કરે છે. આપણાં દેશી ખોરાકને લોકો ભુલી રહ્યા છે અને ઇંસ્ટંટ ખોરાક અને કેમીકલથી ભરપુર દવાઓ ખાઇને આવા ગંભીર રોગને આમંત્રણ આપતા હોય છે.

બચવા માટે એટલે કે આ રહી પાણી પહેલા પાળ...

-ઓર્ગેનીક-સજીવ ખેતી આધારીત ખોરાક જ ખાઇએ. ( આ બધુ ખાવુ હોય તો ઘંઉ ૪૦૦૦ ના મણ, સિંગતેલ તેલનો ડબો ૪૦૦૦, તલ તેલનૉ ડબો ૬૦૦૦ અને ગાયનુ ઘી ૧૮૦૦ કીલો નું અને શાકભાજી ૨૦૦ નુ કીલો ખાવાની તેવડ હોય તો જ આ બાજુ મોઢુ કરવુ.... ખોટા આંકડા બતાવીને ખેડુતોની પત્તરના ખાંડવી. ઓર્ગેનીક-સજીવખેત પેદાશ  હંમેશા મોંઘુ જ હોય તે લખી રાખવુ. આઇફોન અને ચાઇના મોબાઇલની સરખામણી કયારેય ના થઇ શકે.)
-સાદો ખોરાક ખાઈએ.

-સાદુ જીવન જીવીએ.

-દવાઓ કોઇ પણ પ્રકારની હોય ચાહે માણસ માટેની કે જંતુનાશક હોય કાળજીપૂર્વક ઉપયોગ કરીએ.

-આયુર્વેદ દવાનો મોટા પ્રમાણમાં ઉપયોગ કરવો.

-રેડીએશન થતુ હોય તેવા વિસ્તારથી દુર રહીએ.

-વ્યસનથી દુર રહીએ.દારૂ,મટન, તમાકુ ,ગુટખા વગેરે.

-મોબાઈલ નો કામ વગર ઉપયોગ કરવો નહી

-કોઈ પણ પ્રકારના ફાસ્ટ ફુડ નો ત્યાગ કરવો.
-દરરોજ કસરત અને પ્રાણાયામ માટે સમય ફાળવો
કારણકે આ સમય તમારી તંદુરસ્તી સાથે સંકળાયેલો છે.

-આયુર્વેદને અપનાવીએ.

ઉદાહરણ
કોઈ પણ વ્યક્તિ ની ઉંમર ધારોકે
૩૦ વર્ષ ની છે તો નીચે મુજબ તેમને વાર્ષિક કે છમાસિક પ્રિમિયમ ભરી શકે છે.
ઉમર-૩૦
મુદત-૩૦
વિમા રકમ -૨૦ લાખ
વાર્ષિક ભરવાના-૩૯૮૮-૦૦
છમાસિક-૨૦૩૪
દરરોજના ૧૦ રૂપિયા

વધુ વિગત માટે સંપર્ક કરો
અમારી વેબસાઇટ-
https://www.licmtd.com

Official website
https://www.licindia.in

Mo-7990043171
Email-licmtd@gmail.com


Sunday, 24 May 2020

.... आत्मनिर्भरता की ओर स्वदेशी एक कदम



 .... आत्मनिर्भरता की ओर स्वदेशी एक कदम .....

 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

 * कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए अब तक मिले दान * .....

  टाटा: 1,500 करोड़ रु।

 विप्रो: 1200 करोड़।
 
 आईटीसी: 150 करोड़

 * भारत का एलआईसी: 105 करोड़ *
 
 हिंदुस्तान यूनिलीवर: 100 करोड़

 अनिल अग्रवाल (वेदांत): 100 करोड़,
 
 हीरो: 100 करोड़

 बजाज ग्रुप: 100 करोड़

 शिरडी मंदिर: 51 करोड़

 पतंजलि (रामदेव) 50 करोड़।

 सोमनाथ ट्रस्ट: 1.25 करोड़।

 अंबाजी मंदिर: 20 करोड़

 सिद्धि विनायक: 50 करोड़

 वैष्णव देवी: 25 करोड़

 बालाजी: 75 करोड़

 BCCI: 51 करोड़

 CRPF: 33 करोड़

 अक्षय कुमार, अभिनेता: 25 करोड़,

 सन फार्मा: 25 करोड़

 ओला: 20 करोड़

 मुकेश अंबानी: 500 करोड़ + अस्पताल

 अडानी ग्रुप 500 करोड़ रु

 आनंद महिंद्रा: होटल + वेंटिलेटर

 प्रभास, अभिनेता: 4 करोड़

 नडेला (सूक्ष्म। चोरी): 2 सी। आर।

 अनिता डांगरे: १।  1.5 करोड़ रु

 अल्लू अर्जुन:।  1.25 करोड़

 राम चरण: 1.40 करोड़

 अनुपम खैर: 1.25 करोड़

 पवन कल्याण, अभिनेता: 1 करोड़

 महेश बाबू, अभिनेता: 1 करोड़

 चिरंजीवी, अभिनेता: 1 करोड़

 हेमा मालिनी, अभिनेता: 1 करोड़

 बाला कृष्णा, अभिनेता: 1 करोड़

 जूनियर एनटीआर, अभिनेता: 75 लाख

 सुरेश रैना, क्रिकेटर: 52 लाख

 सचिन तेंदुलकर, क्रिकेटर: 52 लाख

 सनी देओल: 50 लाख

 कपिल शर्मा: 50 लाख

 रजनीकांत: अभिनेता: 50 लाख

 सौरव गांगुली: 50 लाख

 लगभग सभी * सरकारी कर्मचारी: उनके वेतन का 1 से 5 दिन *

 इससे बहुत अधिक।  ।


 आपकी पसंदीदा कंपनियों द्वारा माननीय प्रधान मंत्री आपदा राहत कोष में योगदान, जिसका लाभ आपकी खरीद के माध्यम से भारत में कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में किया जाता है।

  * सबवे: 00 *
 
 * पिज़्ज़ा हट: 00 *
 
 * डोमिनोज़: 00 *
 
 * मैकडॉनल्ड्स: 00 *
 
 * बर्गर किंग: 00 *
 
 * बरिस्ता: 00 *
 
 * बारबेक्यू नेशन: 00 *
 
 * KFC: 00 *
 
 * फ्लिपकार्ट: 00 *
 
 * अमेज़ॅन: 00 *
 
 * मंत्र: ०० *
 
 * Rediff: 00 *

  * स्नैपडील: 00 *

  * हुंडई (जापानी कंपनी): 00 *

  * बीएमडब्ल्यू (जर्मन कंपनी): 00 *

  * ऑडी (जर्मन कंपनी): 00 *
 
 * मर्सिडीज (जर्मनी कंपनी): 00 *

 * विवो: 0 *

 * ओप्पो: 0 *

 * Apple (iphone): 0 *

 * अधिक प्लस: 0 *

 * सभी चीनी कंपनियां: 0 *
 
 😆😆😆😆😆😆😆😆

  क्या आप स्वदेशी का अर्थ समझते हैं?

 सिर्फ 15 अगस्त और 26 जनवरी को तिरंगा उतारने का मतलब यह नहीं है कि स्वदेशी नं ...

 😉

 क्या आपको विदेशी कंपनियों के लिए पैसा कमाना पसंद है ...?

 तो इन दिनों जरूरतमंद लोगों के लिए आपकी पसंदीदा कंपनियों ने क्या किया?

  यदि आप इसे समझते हैं, और आप चाहते हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था पहले की तरह तेजी से बढ़े ...

 इसलिए आज और * अभी से शपथ लें कि इस लॉकडाउन के बाद मैं केवल भारतीय कंपनियों के उत्पादों को खरीदूंगा और उन्हें प्राथमिकता दूंगा और अपने धन का उपयोग अपनी अर्थव्यवस्था को तेज करने के लिए करूंगा, तभी हमारी जीडीपी बढ़ेगी और भारत किसी भी अन्य देश से बेहतर होगा।  बहुत तेजी से उछलेगा ... *

 इस संदेश को तब तक शेयर करें जब तक कि यह हर सच्चे भारतीय तक न पहुंच जाए

 * क्या हमारा विवेक हमें अप्रत्यक्ष रूप से विदेशियों की आय को बाधित करने की अनुमति देता है ... *

 * हमें स्वदेशी उत्पादों और सेवाओं का उपयोग करना चाहिए ..... *

 * और हमारे बच्चों में भी यही आदत डालें। * *

 * कृपया सभी मित्रों को ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करें और स्वदेशी बनें ...... *

 * हमें खुद से पूछना चाहिए कि क्या हमें अपना पैसा अपने भारत में रखना चाहिए या विदेशियों को सौंपना चाहिए जो हमारी संस्कृति को नष्ट कर रहे हैं, हमारी राष्ट्रीय कमाई का एक बड़ा हिस्सा लूट रहे हैं, विभिन्न माध्यमों और रणनीति के माध्यम से हमें धमकी दे रहे हैं? *

 * अब भारत को जल्द ही पटरी पर लाने के लिए गंभीर होने का समय है ..... *

 * हमारे छोटे कदम हम सभी और हमारी आने वाली पीढ़ियों की मदद करेंगे .... *

 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

Saturday, 16 May 2020

पैसे बचाने का सबसे आसान तरीका है .

         
     पिछले कुछ दिनों में दैनिक वृद्धि की तुलना में बेहतर बाल कटवाने, रंग या ऐसा होने पर बचत एक और कमाई साबित हो सकती है।  अगर आपके साथ ऐसा कम पैसों के लिए होता है।  यदि आप इन परिस्थितियों में बढ़ते उपचार का लाभ उठाना चाहते हैं, तो आपको कीमत के मुद्दे पर बिना किसी कारण के एक प्रसिद्ध सैलून मॉडल बनने का लाभ उठाना होगा, जो जीवन शैली में छोटा है।  स्टाइलिस्ट को प्रशिक्षित करने के लिए एक अच्छी राशि बचाई जा सकती है यदि प्रत्येक सैलून मालिक अपने स्वयं के बदलाव करता है जिसमें अन्य काम करने की आवश्यकता होती है।  यद्यपि यह नवागंतुकों के लिए किया जा सकता है, लेकिन यह डरने की कोई जरूरत नहीं है कि स्टाइलिस्ट आपके केश को बर्बाद कर देगा और इस तरह पैसे बचाने के छह तरीके नीचे आ जाएंगे।  क्योंकि उन्हें प्रशिक्षण देते समय नाई के पैसे बचाना: पर्यवेक्षक व्यक्तित्व में मौजूद हैं।
एक स्टाइलिस्ट की संभावना आपके केश को खराब कर देती है या पर्यवेक्षक की उपस्थिति के कारण बहुत पतली होती है।  इस तरह आप बहुत कम लागत में नियमित अंतराल पर स्टाइलिश लुक पा सकते हैं।  
        महंगी आदत से छुटकारा पाएं: हमारे दैनिक जीवन में, हमारे पास कई छोटी, महंगी आदतें हैं जो लंबे समय में महंगी हैं।  यदि आप इस तरह के उदाहरण को देखते हैं, अगर आपको सुबह काम पर जाने से पहले और दोपहर में अपनी पसंद की कॉफी शॉप में रहने की आदत है, तो इस आदत के लिए औसतन एक सौ रुपये प्रतिदिन का खर्च आता है।  अगर हम इस तरह से गणना करना शुरू करते हैं, तो इस छोटी सी आदत की कीमत सालाना 6,000 रुपये हो सकती है।  यह एक बड़ी राशि है जिसका उपयोग अन्य कार्यों के लिए किया जा सकता है।  इसका समाधान कॉफी पीने की आदत को छोड़ना नहीं है।  कॉफी पीने के लिए दिन में दो बार कॉफी की दुकान पर जाने के बजाय, एक अच्छी गुणवत्ता वाली कॉफी की फलियों को घर लाएं और उसका पाउडर बनाएं और फिर उसमें से कॉफी बनाएं और इसे घर पर ही पिएं।
यदि ऐसा है, तो यह भी सलाह दी जाती है कि एक अच्छी गुणवत्ता वाला फुलस्कस खरीदें और इसे घर से कॉफी के साथ भरें और इसे कार्यालय में लाएं।  
      सेल फोन बिल बचत: हर सेलुलर सेवा प्रदाता हर महीने पैसे बचाने वाले को एक योजना प्रदान करता है।  इन सभी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए, किसी को फोन द्वारा कंपनी के ग्राहक सेवा अधिकारी के संपर्क में रहना चाहिए और प्रत्येक योजना के बारे में पता होना चाहिए।  यह ग्राहक सेवा अधिकारी आपको एक योजना चुनने में मदद करता है जो आपकी जीवन शैली के अनुकूल है।  यह संभव है कि ग्राहक सेवा अधिकारी से बात करने के बाद आपको पता चले कि आपको विदेश यात्रा करने के लिए महंगी ISD रोमिंग सुविधा की आवश्यकता नहीं है।  इसके अलावा, यदि आप SSS पर बहुत अधिक खर्च करते हैं, तो मुफ्त एसएमएस सेवा फायदेमंद हो सकती है।
          कार खरीद पर सहेजें: एक नई कार खरीदना और इसे दिनों के अंत तक चलाना स्वचालित रूप से 20% तक कीमत कम कर देगा।  इस प्रकार, दूसरे शब्दों में, नई कार की खरीद के गणना समय के बाद बीस प्रतिशत राशि पानी में चली जाती है।  यदि आप इस राशि को बचाना चाहते हैं, तो एक या दो साल पुरानी कार को फिर से बेचना खरीदने का विकल्प विवेकपूर्ण साबित होता है।  इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि इतनी कम इस्तेमाल की गई कार की वारंटी अवधि के दौरान हवा के कारण समस्या उत्पन्न होती है या नहीं।  इस प्रकार, यदि आप कार खरीदना चाहते हैं, तो आपको पर्याप्त शोध करने के बाद ही इसे खरीदना चाहिए।  
  कार की मरम्मत पर पैसा बचाएं: कार की मरम्मत बहुत महंगी नहीं होनी चाहिए। यदि कोई समस्या है, तो इसे प्रारंभिक चरण में मरम्मत की जानी चाहिए।  एक मैकेनिक द्वारा मरम्मत आमतौर पर कम समय और लागत में की जा सकती है, जब समस्या मामूली हो।  इसके अलावा, कार की मरम्मत को बनाए रखने के लिए, टायर को नियमित रूप से फुलाया जाना और तेल और वायु फिल्टर को बदलने जैसी आदतों को बनाए रखना आवश्यक है।
        खरीदारी पर बचत: हाल ही के एक अध्ययन में पाया गया कि जो महिलाएं बिना सूची बनाए खरीदारी करती हैं, वे जरूरत से ज्यादा खरीदारी कर लेती हैं।  आमतौर पर महिलाएं खरीदारी करने जाती हैं।  तब भावना को नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।  स्थिति पर काबू पाने के लिए खरीदारी करने से पहले एक सूची बनाना उचित है।  इस तरह से खरीदारी करने से आपका काफी पैसा बच सकता है।  


Thursday, 16 April 2020

क्‍या खुलेगा,क्‍या रहेगा बंद सरकार की नई गाइडलाइंस में जान लीजिए 20/04/2020 ke bad or 4/05/2020




   corona virus के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल को लॉकडाउन के दूसरे चरण (Lockdown 2.0) का ऐलान किया है. उन्‍होंने 14 अप्रैल को खत्‍म हो रहे लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने का ऐलान किया. हालांकि ये भी कहा कि ऐसे इलाके जो कोरोना हॉट स्‍पॉट के दायरे में नहीं आते, ऐसे क्षेत्रों में 20 अप्रैल से सशर्त छूट दी जा सकती है. पीएम मोदी के ऐलान के 24 घंटे के भीतर ही केंद्रीय गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन के बारे में नए दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं. इसमें साफतौर पर बताया गया है कि क्‍या खुलेगा रहेगा और क्‍या बंद रहेगा? इसके साथ ही लोगों के लिए एडवाइजरी भी जारी की गई है:
क्‍या रहेगा बंद
सभी सार्वजनिक गतिविधियों पर रोक. सरकार ने सभी तरह के सार्वजनिक यातायात और सार्वजनिक स्थानों को खोलने पर रोक लगाई है. गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा निर्देशों के अनुसार, लोगों की अंतर-राज्यीय, अंतर-जिला आवाजाही, मेट्रो, बस सेवाओं पर तीन मई तक रोक जारी रहेगी. इस अवधि के दौरान शैक्षणिक संस्थान, कोचिंग केंद्र, घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय हवाई यायातात, ट्रेन सेवाएं भी स्थगित रहेंगी.सार्वजनिक स्थानों पर थूकना एक दंडनीय अपराध बन गया है और शराब, गुटखा, तंबाकू आदि की बिक्री पर सख्त प्रतिबंध लागू है.
सिनेमाघर, मॉल्स, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, जिमखाने, खेल परिसर, स्विमिंग पूल, बार जैसे सार्वजनिक स्थान भी तीन मई तक बंद रहेंगे. नए दिशा निर्देशों के अनुसार, सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल, धार्मिक समारोह, धार्मिक स्थल, प्रार्थना स्थल तीन मई तक जनता के लिए बंद रहेंगे
क्‍या खुलेगा
पीएम मोदी ने ये भी कहा था कि इस बार अगले एक हफ्ते तक लॉकडाउन का पिछली बार की तुलना में अधिक सख्‍ती से पालन किया जाएगा. इस दौरान देश के सभी क्षेत्रों, इलाकों और थानों का बारीकी से निरीक्षण किया जाएगा. उसके बाद यदि स्थिति में सुधार दिखता है तो 20 अप्रैल से चुनिंदा जगहों पर सशर्त छूट दी जा सकती है. लिहाजा गैर हॉट स्‍पॉट वाले इलाकों में 20 अप्रैल से स्व-रोजगार में लगे इलेक्ट्रिशियंस, आईटी संबंधी मरम्मत का काम करने वाले लोगों , प्लंबर, मोटर मैकेनिक, बढ़ई को काम करने की अनुमति दी जाएगी. इसके साथ ही ये भी इन दिशा-निर्देशों में कहा गया कि 20 अप्रैल से जिन गतिविधियों को मंजूरी दी जाएगी उनमें कृषि, बागवानी, खेती, कृषि उत्पादों की खरीद, ‘मंडियां’ शामिल होंगी.
बैंक ब्रांच और एटीएम पहले की तरह काम करते रहेंगे. मनरेगा मजदूरों को सोशल डिस्‍टेंसिंग के सख्‍त नियमों और फेस मास्‍क लगाकर काम करने की अनुमति दी जाएगी.
इसके अनुसार, राजमार्गों पर चलने वाले ‘ढाबे’, ट्रक मरम्मत की दुकानें, सरकारी गतिविधियों के लिए कॉल सेंटर 20 अप्रैल से खुलेंगे. कृषि औजार की दुकानें, इसके अतिरिक्त पुर्जे, इसकी आपूर्ति श्रृंखला, मरम्मत, कृषि औजार से संबंधित ‘कस्टम हायरिंग सेंटर्स’ 20 अप्रैल से खुले रहेंगे
दवा, चिकित्सा उपकरण बनाने वाली ईकाइयां 20 अप्रैल से खुलेंगी तथा साथ ही एम्बुलेंस खरीदने समेत चिकित्सा बुनियादी ढांचे का निर्माण कार्य भी तभी से शुरू होगा. केंद्र सरकार ने देशभर में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य बना दिया है. बंद के दौरान किराने की दुकान, फल, सब्जियों की दुकानें/ठेले, दूध के बूथ, अंडे, मांस तथा मछली की दुकान खुली रहेंगी.
हालांकि, 20 अप्रैल से दी जाने वाली छूट कोविड-19 से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों (हॉटस्पॉट) या नियंत्रित क्षेत्रों पर लागू नहीं होंगी और राज्य/केंद्र शासित प्रदेश सरकारें किसी भी तरीके से दिशा निर्देशों को कमतर नहीं करेंगी लेकिन वे स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार सख्त कदम लागू कर सकती हैं.

Monday, 30 March 2020

अभिकर्ता साथियों LIC में कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा प्रभाव अभिकर्ताओं पर पड़ा है

अभिकर्ता साथियों LIC में कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा प्रभाव अभिकर्ताओं पर पड़ा है अर्थात अभिकर्ताओं को वित्तिय हानि होगी! सरकार ने फैसला लिया है कि  मजदूरों को काम न होने पर भी उनकी मज़दूरी दी जाएगी , कर्मचारियों को घर बैठे  पूरा वेतन मिलेगा, आउटसोर्सं कर्मचारियों को  भी पूरा वेतन मिलेगा । अभिकर्ताओं को उनका कमीशन मिलेगा क्या ?  बीमा धारक  प्रीमियम जमा नहीं कर पा रहे हैं, अभिकर्ता फिल्ड में नहीं जा पा रहा है! LIC प्रबंधन ने अभिकर्ताओं की सुरक्षा के लिए कोई भी क़दम नहीं उठाया है अर्थात देश के दस लाख अभिकर्ताओं और उनके परिजनों की कोई परवाह नहीं है?  बीमा बेचने व प्रीमियम हेतु फिल्ड में भेजा जा रहा है जो उचित नहीं है!  अभिकर्ताओं को भी समस्त कर्मचारियों  व दिहाडीदार मजदूरों की तर्ज पर भुगतान होना चाहिए और इस आपदा से निपटने के लिए आर्थिक सहयोग दिया जाना चाहिए जो पिछले वर्ष की इसी अवधि के बराबर हो, क्लब सदस्यों को रियायत  दी जाएं!   मेरा आप सभी से अनुरोध है यह आवाज उच्च प्रबंधन तक पहुंचाई जाए!

Friday, 31 January 2020

आर्थिक सर्वेक्षण 2020 में, आयकर स्लैब में बड़े बदलाव हो सकते हैं, जैसे कि आम आदमी की सामान्य राहत,


 
 
Add caption
image cradit third party
    बजट से पहले मध्यम वर्ग के लिए मोया अच्छा है।  आर्थिक सर्वेक्षण 2020 संसद में जारी किया गया है।  आर्थिक सर्वेक्षण ने संकेत दिया है कि बजट में आयकर स्लैब बदल सकते हैं।  बजट २०२० आज जारी होने वाला है।  इनकम टैक्स स्लैब में इस बजट का इंतजार |  गिरावट की संभावना है।  आर्थिक सर्वेक्षण उस ओर इशारा करते हैं।  वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में आर्थिक सर्वेक्षण 2019 - 2020 पेश किया है।  आर्थिक सर्वेक्षणों ने उम्मीद जताई है कि सरकार करदाताओं को 2020 में बड़ी आयकर राहत दे सकती है।
                 इसके अलावा ई-फ्रक्टर क्षेत्र में निवेश बढ़ाने के लिए भी विज्ञापन दिया जा सकता है।  कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती के बाद से आयकर स्लैब में छूट की मांग भी लगातार बढ़ रही है।  विशेषज्ञों का यह भी मानना ​​है कि अर्थव्यवस्था में खपत और खपत बढ़ाने के लिए।  इनकम टैक्स में छूट बहुत जरूरी है।  करदाताओं को देकर जनशक्ति को बढ़ाया।  आर्थिक सर्वेक्षण से संकेत मिलता है कि सरकार Eq  टेक लेते हुए कुछ बड़ी घोषणा कर सकते हैं।  जानकारों का मानना ​​है कि यह विज्ञापन टैक्स स्लैब होने के साथ-साथ सेकंड भी है?  |  80C की छूट की सीमा भी बढ़ाई जा सकती है
image craditthird party


                टैक्स की बात करें तो वर्तमान में 25 लाख रुपये की आय पर कोई टैक्स नहीं है।  जबकि ढाई लाख की आय पर पांच फीसदी टैक्स है।  पांच से एक मिलियन की आय पर 20% कर है।  उसके ऊपर आय पर 30% कर लगता है।  विशेषज्ञों का मानना ​​है, पांच लाख तक के राजस्व पर शून्य कर लगाया जा सकता है।  पांच से दस लाख तक की आय पर 20 प्रतिशत के बजाय, एक लाख से 20 लाख तक की 10 प्रतिशत आय पर 20 प्रतिशत और 30 से अधिक आय वाले ग्राहकों पर 30 प्रतिशत कर लगाया जाना चाहिए।  उल्लेखनीय है कि, पिछले छह वर्षों से, छूट की सीमा में कोई वृद्धि नहीं हुई है।
image cradit third party       \
       वर्तमान में, यह सीमा 1 है।  5 लाख रु।  जैसे: |  बीमा प्रीमियम, पीएफ में योगदान, बच्चों की ट्यूशन फीस, हाउसिंग लोन का पुनर्भुगतान और पीपीएफ में योगदान सभी 80 सी के तहत आते हैं।  80 सी के तहत इतनी सारी चीजें लाना एक कम छूट की तरह लगता है।  आम बजट में 2020 में राष्ट्रीय पेंशन योजना एनपीआरए में छूट की सीमा बढ़ाने की उम्मीद है।  वर्तमान में, 50,000 रुपये तक का निवेश कर छूट है।

Wednesday, 11 December 2019

फास्ट टैग क्या है? इलेक्ट्रॉनिक रूप से टोलनॉक पर आपके खाते से शुल्क घटाने की प्रणाली।

      

               Image credit third party
   टोल को भरने के लिए गाड़ियों की एक कतार और कार में हाइवे पर परीक्षण करने के लिए हमारे धैर्य का होना एक सामान्य अनुभव है।  कभी-कभी यह यात्रा को और भी बदतर बना देता है लेकिन एक बार नहीं, लेकिन कभी-कभी टोल का भुगतान करने का समय होता है!  |  इस समस्या को दूर करने के लिए, सरकार ने अब फास्टैग नामक एक प्रणाली विकसित की है, जो 1 दिसंबर से लागू होती है और केवल राष्ट्रीय राजमार्ग पर लागू होगी।  
     फास्टैग एक स्टिकर है जिसमें एक चिप और एंटीना है, यह स्टिकर आपको अपने वाहन की विंडस्क्रीन पर खरीदना और पेस्ट करना है।  फिर जब आपका वाहन टोल नाके से गुजरेगा, तो टोल नेल सेंसर स्वचालित रूप से आपके खाते से टोल शुल्क को पढ़ लेगा और काट देगा, इसलिए आपको टोल ब्लॉक में एक मिनट भी रुकने की आवश्यकता नहीं है।  फास्टगामा रेडियो एक आवृत्ति पहचान तकनीक है जो आपके वाहन के विवरण में कटौती करेगा।  इस शुल्क को स्वचालित रूप से काटे जाने की व्यवस्था करने के लिए, इसे अपने बैंक खाते या वॉलेट से व्यवस्थित करें  चेन ले ली है।
             image credit third party
      फास्ट टैग सिस्टम अब देश में 8 टोलनाकों पर उपलब्ध है।  इस पिछले न्यायाधीश के उच्च टोलनाका में, उपलब्ध चादरों का उपयोग करने वालों को 1 मार्च तक जारी रहने वाले टोल शुल्क च पर 5% की छूट मिलेगी।  नकदी के साथ सरकार की डिजिटल भुगतान प्रणाली को प्रोत्साहित करता है।  अन-तालक पर कम रखना वास्तव में आसान है।  यह उपयोगकर्ताओं के लिए बात करना आसान होगा क्योंकि लू टोल को नाक पर लंबी कतार नहीं लगती है।  इसके अलावा, यह ऊर्जा की बचत भी करता है।  कई विकसित देशों में यह व्यवस्था लागू है और यह लोगों के समय की बचत करती है।
      सरकार ने कहा है कि ज्यादा से ज्यादा लोग फास्टैग का इस्तेमाल कर रहे हैं।  फास्टैग नहीं रखने वालों को नेशनल हाइवे पर दोगुना टोल चुकाना होगा। फास्टैग स्टीकर की बिक्री के लिए बैंकों को काम पर रखा गया है।  वर्तमान में बैंक फास्टैग का वितरण कर रहे हैं।  कुछ टोलनाक्स, पेट्रोल पंप, आरटीओ, या यहां तक ​​कि अमेज़ॅन (ऑन-लाइन) पर भी उपलब्ध है।  लागत इस बात पर निर्भर करती है कि आप किसे खरीदते हैं।  ICICI बैंक की कार की कीमत रु।  499।  3 लें जो टैग डिपॉजिट रिचार्ज, प्रारंभिक शुल्क और जीएसटी के साथ आता है।  उसके लिए आपको ROC  पासपोर्ट साइज फोटो, आईडी प्रूफ और एड्रेस बुक जैसे दस्तावेज जमा करने होंगे।  फास्टैग में आपके बैंक खाते से या प्री-पेड वॉलेट से पैसे काटने की क्षमता है।  जब भी आप फास्टैग की सुविधा tolonaca से गुजरते हैं, तो उन्हें एक एसएमएस प्राप्त होगा जिसमें कितना पैसा काटा गया है।